कौन वक़्त ऐ वाए गुज़रा जी को घबराते हुए – ज़ौक़

Read this beautiful ghazal by Sheikh Ibrahim Zauq – “Kaun Waqt Ai Vaae Gujraa Ji Ko Ghabaraate Hue”. आख़िरी मुग़ल बादशाह बहादुर शाह ज़फ़र के उस्ताद और राजकवि शेख़ इब्राहीम ज़ौक़ की एक ग़ज़ल “कौन वक़्त ऐ वाए गुज़रा जी को घबराते हुए” पढ़िए.

Zauq

कौन वक़्त ऐ वाए गुज़रा जी को घबराते हुए

कौन वक़्त ऐ वाए गुज़रा जी को घबराते हुए
मौत आती है अजल को याँ तलक आते हुए

आतिश-ए-ख़ुर्शीद से उठता नहीं देखा धुवाँ
आ खड़े हो बाम पर तुम बाल सुखलाते हुए

चाक आता है नज़र पैरहन-ए-सुब्ह-ए-बहार
किस शहीद-ए-नाज़ को देखा है कफ़नाते हुए

वो न जागे रात को और ज़िद से बख़्त-ए-ख़ुफ़्ता की
बज गया आख़िर गजर ज़ंजीर खड़काते हुए

Kaun Waqt Ai Vaae Gujraa Ji (English Font)

Kaun waqt ai vaae gujraa ji ko ghabaraate hue
Maut aati hai ajal ko yaan talak aate hue

Aatish-e-khurshiid se uThataa nahiin dekhaa dhuvaan
Aa khade ho baam par tum baal sukhalaate hue

Chaak aataa hai najr pairahan-e-subh-e-bahaar
Kis shahiid-e-naaj ko dekhaa hai kafnaate hue

Vo n jaage raat ko aur jid se bakht-e-khuftaa kii
Baj gayaa aakhir gajar zanjeer khadkaate hue

Want More Like This?

Get Hindi and Punjabi Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes directly in your MailBox

Ghazals Latest!