Aarti Sangrah In Hindi PDF

Welcome to our Aarti Sangrah In Hindi page. Here in this page, you will find almost all of the Aarti which is used in Hindu religious worship. We have also curated a pdf and it can also be downloaded for free. The link to download the pdf is given below.

Aarti Sangrah In Hindi PDF Download - Aarti Sangrah in Hindi

This is a comprehensive Aarti Sangrah article, you can just download the pdf and close this page or scroll down and read this fabolous article we have bought for you. Also BOOKMARK this page for future referene.

What does word “Aarti” means in Aarti Sangrah?

Yes, we all know what is Aarti, but for those who don’t know, here is the quick explanation.

Aarti, which is also spelled sometimes as Arti, Aarthi, Aarthy, आरती, is a form of offering prayers to one or more god or goddess in Hinduism. When we pray or worship, at the end of the prayer or the puja, light in the form of diya or karpor(camphor कर्पूर in hindi) is offered to the diety and songs are sung in the praise of that god or goddess. This is the defination for Aarti.

Aarti Sangrah in Hindi (आरती संग्रह), as the name defines is collection of those songs or prayers which are sung in praise for various Hindu God and Goddess.

Mahfil brings to you, the comprehensive list of all the Aarti that are used in Hindu worship. Our Aarti Sangrah have the lyrics in Hindi and English both.

Continue reading the post!

Aarti Om Jai Jagdish Hare Lyrics 

This is probably the most used Aartis in hindu form of worship. The Aarti Om Jai Jagdish Hare is dedicated to Supreme Lord Vishnu. Almost all the hindu know this aarti song very well and really they don’t need to look at the lyrics for reciting it. However, we are providing for those who don’t remember the full Aarti Om Jai Jagdish Hare Lyrics. We are using the Youtube video of Anuradha Paudwal as a reference for Aarti Om Jai Jagdish Hare Lyrics post.

Aarti Om Jai Jagdish Hare Lyrics - Aarti Sangrah in Hindi

Singer: Anuradha Paudwal
Music Director: Arun Paudwal
Lyricist: Traditional
Music Label:T-Series

Aarti Om Jai Jagdish Hare Lyrics in Hindi

ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी ! जय जगदीश हरे।
भक्त जनों के संकट, क्षण में दूर करे॥

ॐ जय जगदीश हरे।
जो ध्यावे फल पावे, दुःख विनसे मन का।
स्वामी दुःख विनसे मन का।
सुख सम्पत्ति घर आवे, कष्ट मिटे तन का॥
ॐ जय जगदीश हरे।

मात-पिता तुम मेरे, शरण गहूँ मैं किसकी।
स्वामी शरण गहूँ मैं किसकी।
तुम बिन और न दूजा, आस करूँ जिसकी॥
ॐ जय जगदीश हरे।

तुम पूरण परमात्मा, तुम अन्तर्यामी।
स्वामी तुम अन्तर्यामी।
पारब्रह्म परमेश्वर, तुम सबके स्वामी॥
ॐ जय जगदीश हरे।

तुम करुणा के सागर, तुम पालन-कर्ता।
स्वामी तुम पालन-कर्ता।
मैं मूरख खल कामी, कृपा करो भर्ता॥
ॐ जय जगदीश हरे।

तुम हो एक अगोचर, सबके प्राणपति।
स्वामी सबके प्राणपति।
किस विधि मिलूँ दयामय, तुमको मैं कुमति॥
ॐ जय जगदीश हरे।

दीनबन्धु दुखहर्ता, तुम ठाकुर मेरे।
स्वामी तुम ठाकुर मेरे।
अपने हाथ उठा‌ओ, द्वार पड़ा तेरे॥
ॐ जय जगदीश हरे।

विषय-विकार मिटा‌ओ, पाप हरो देवा।
स्वमी पाप हरो देवा।
श्रद्धा-भक्ति बढ़ा‌ओ, सन्तन की सेवा॥
ॐ जय जगदीश हरे।

श्री जगदीशजी की आरती, जो कोई नर गावे।
स्वामी जो कोई नर गावे।
कहत शिवानन्द स्वामी, सुख संपत्ति पावे॥
ॐ जय जगदीश हरे।

Aarti Om Jai Jagdish Hare Lyrics Video 

Below is the video for the Aarti Om Jai Jagdish Hare – 

Aarti Kunj Bihari Ki Lyrics 

Aarti Kunj Bihari Ki is the one of the most famous Krishna Aarti. We have used the youtube video where Hariharan is singing the Aarti Kunj Bihari Ki lyrics.

Album: AARTI VOL.5
Singer: HARIHARAN
Lyricist: Traditional
Music Label: TSeries BhaktiSagar

Aarti Kunj Bihari Ki Lyrics  - Aarti Sangrah in Hindi

Aarti Kunj Bihari Ki Lyrics – Aarti Sangrah in Hindi

गले में बैजंती माला, बजावै मुरली मधुर बाला।
श्रवण में कुण्डल झलकाला, नंद के आनंद नंदलाला।
गगन सम अंग कांति काली, राधिका चमक रही आली।
लतन में ठाढ़े बनमाली;
भ्रमर सी अलक, कस्तूरी तिलक, चन्द्र सी झलक;
ललित छवि श्यामा प्यारी की॥
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥

आरती कुंजबिहारी की
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥ x2

कनकमय मोर मुकुट बिलसै, देवता दरसन को तरसैं।
गगन सों सुमन रासि बरसै;
बजे मुरचंग, मधुर मिरदंग, ग्वालिन संग;
अतुल रति गोप कुमारी की॥
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥

आरती कुंजबिहारी की
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥ x2

जहां ते प्रकट भई गंगा, कलुष कलि हारिणि श्रीगंगा।
स्मरन ते होत मोह भंगा;
बसी सिव सीस, जटा के बीच, हरै अघ कीच;
चरन छवि श्रीबनवारी की॥
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥

आरती कुंजबिहारी की
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥ x2

चमकती उज्ज्वल तट रेनू, बज रही वृंदावन बेनू।
चहुं दिसि गोपि ग्वाल धेनू;
हंसत मृदु मंद,चांदनी चंद, कटत भव फंद;
टेर सुन दीन भिखारी की॥
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥

आरती कुंजबिहारी की
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥ x2

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥
आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥

Aarti Kunj Bihari Ki Lyrics Video 

Below is the video for Aarti Kunj Bihari ki from Youtube – 

Aarti Banke Bihari Ki 

Just like the Aarti Kunj Bihari Ki, Aarti Banke Bihari Ki is also the very famous Krishna Aarti. the one of the most famous Krishna Aarti. Here we are providing the Aarti Banke Bihari Ki which released on youtube by Ziiki Media.

Aarti Banke Bihari Ki Lyrics in Hindi

श्री बाँकेबिहारी तेरी आरती गाऊँ।
कुन्जबिहारी तेरी आरती गाऊँ।
श्री श्यामसुन्दर तेरी आरती गाऊँ।
श्री बाँकेबिहारी तेरी आरती गाऊँ॥

मोर मुकुट प्रभु शीश पे सोहे।
प्यारी बंशी मेरो मन मोहे।
देखि छवि बलिहारी जाऊँ।
श्री बाँकेबिहारी तेरी आरती गाऊँ॥

चरणों से निकली गंगा प्यारी।
जिसने सारी दुनिया तारी।
मैं उन चरणों के दर्शन पाऊँ।
श्री बाँकेबिहारी तेरी आरती गाऊँ॥

दास अनाथ के नाथ आप हो।
दुःख सुख जीवन प्यारे साथ हो।
हरि चरणों में शीश नवाऊँ।
श्री बाँकेबिहारी तेरी आरती गाऊँ॥

श्री हरि दास के प्यारे तुम हो।
मेरे मोहन जीवन धन हो।
देखि युगल छवि बलि-बलि जाऊँ।
श्री बाँकेबिहारी तेरी आरती गाऊँ॥

आरती गाऊँ प्यारे तुमको रिझाऊँ।
हे गिरिधर तेरी आरती गाऊँ।
श्री श्यामसुन्दर तेरी आरती गाऊँ।
श्री बाँकेबिहारी तेरी आरती गाऊँ॥

Aarti Baanke Bihari Ki Lyrics Video 

Below is the video for Aarti Baanke Bihari ki from Youtube

Aarti Hanuman Ji Ki Lyrics

Next in our Aarti Sangrah in Hindi collection is the Aarti Hanuman Ji Ki, which is one of the most famous Aarti that is used for Lord Hanuman. Hanuman. We are again providing the Hariharan sung video of the Hanuman Aarti. Hariharan has sung almost all the popular devotional bhajans and aartis.

Aarti Hanuman Ji Ki Lyrics - Aarti Sangrah in Hindi

Singer: Hariharan
Album: Shree Hanuman Chalisa, Hanuman Ashtak
Music Director: Lalit Sen, Chander
Lyrics: Traditional
Music Label: T-Series

Aarti Hanuman Ji Ki Lyrics in Hindi 

आरती कीजै हनुमान लला की।दुष्ट दलन रघुनाथ कला की॥
जाके बल से गिरिवर कांपे।रोग दोष जाके निकट न झांके॥

अंजनि पुत्र महा बलदाई।सन्तन के प्रभु सदा सहाई॥
दे बीरा रघुनाथ पठाए।लंका जारि सिया सुधि लाए॥

लंका सो कोट समुद्र-सी खाई।जात पवनसुत बार न लाई॥
लंका जारि असुर संहारे।सियारामजी के काज सवारे॥

लक्ष्मण मूर्छित पड़े सकारे।आनि संजीवन प्राण उबारे॥
पैठि पाताल तोरि जम-कारे।अहिरावण की भुजा उखारे॥

बाएं भुजा असुरदल मारे।दाहिने भुजा संतजन तारे॥
सुर नर मुनि आरती उतारें।जय जय जय हनुमान उचारें॥

कंचन थार कपूर लौ छाई।आरती करत अंजना माई॥
जो हनुमानजी की आरती गावे।बसि बैकुण्ठ परम पद पावे॥

Aarti Hanuman Ji Ki Lyrics Video 

Below is the video for Aarti Hanuman Ji ki from Youtube

Ambe Tu Hai Jagdambe Kaali Lyrics

Durga Maa Aarti Ambe Tu Hai Jagdambe Kaali is the most widely used Durga Aarti. We are providing the video of the Aarti song sung by Anuradha Paudwal. Listen to the song and read the Ambe Tu Hai Jagdambe Kaali Lyrics.

Album: Aarti Sangrah
Singer: Anuradha Paudwal
Music Director: Arun Paudwal
Lyricist: Traditional
Music Label: T-Series

Ambe Tu Hai Jagdambe Kaali Lyrics in Hindi

अम्बे तू है जगदम्बे काली, जय दुर्गे खप्पर वाली,
तेरे ही गुण गायें भारती, ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती

अम्बे तू है जगदम्बे काली, जय दुर्गे खप्पर वाली,
तेरे ही गुण गायें भारती, ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती

तेरे भक्त जनों पे माता भीड पड़ी है भारी
दानव दल पर टूट पड़ो माँ करके सिंह सवारी
तेरे भक्त जनों पे माता भीड पड़ी है भारी
दानव दल पर टूट पड़ो माँ करके सिंह सवारी

सौ-सौ सिहों से भी बलशाली, है दस भुजाओं वाली,
दुखियों के दुखड़े निवारती
ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती

अम्बे तू है जगदम्बे काली, जय दुर्गे खप्पर वाली,
तेरे ही गुण गायें भारती, ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती

माँ-बेटे का है इस जग में बड़ा ही निर्मल नाता
पूत-कपूत सुने हैं पर ना माता सुनी कुमाता
माँ-बेटे का है इस जग में बड़ा ही निर्मल नाता
पूत-कपूत सुने हैं पर ना माता सुनी कुमाता

सब पे करूणा दर्शाने वाली, अमृत बरसाने वाली
दुखियों के दुखड़े निवारती
ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती

अम्बे तू है जगदम्बे काली, जय दुर्गे खप्पर वाली,
तेरे ही गुण गायें भारती, ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती

नहीं मांगते धन और दौलत, न चांदी न सोना
हम तो मांगें माँ तेरे मन में एक छोटा सा कोना
नहीं मांगते धन और दौलत, न चांदी न सोना
हम तो मांगें माँ तेरे मन में एक छोटा सा कोना

सबकी बिगड़ी बनाने वाली, लाज बचाने वाली
सतियों के सत को संवारती
ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती

अम्बे तू है जगदम्बे काली, जय दुर्गे खप्पर वाली,
तेरे ही गुण गायें भारती, ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती
ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती
ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती
ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती..

Aarti Ambe Tu Hai Jagdambe Kaali Lyrics Video 

Below is the video for Aarti Ambe Tu Hai Jagdambe Kaali from Youtube

Ganesh Ji Ki Aarti Lyrics

Jai Ganesh Deva is one of the most popular and charming Aartis among all devotional Aartis. We are providing the Ganesh Ji Ki Aarti Lyrics for Jai Ganesh Deva. Lord Ganesh, son of Mahadev Shiva, is worshipped first among all Gods, so in that way, this Ganesh Ji Ki Aarti Lyrics is very important Aarti for Aarti Sangrah.

Ganesh Ji Ki Aarti Lyrics - Aarti Sangrah in Hindi

Ganesh Ji Ki Aarti Lyrics in Hindi

जय गणेश, जय गणेश,जय गणेश देवा।
माता जाकी पार्वती,पिता महादेवा॥
जय गणेश, जय गणेश,जय गणेश देवा।
माता जाकी पार्वती,पिता महादेवा॥

एकदन्त दयावन्त,चार भुजाधारी।
माथे पर तिलक सोहे,मूसे की सवारी॥
एकदन्त दयावन्त,चार भुजाधारी।
माथे पर तिलक सोहे,मूसे की सवारी॥

पान चढ़े फूल चढ़े,और चढ़े मेवा।
हार चढ़े, फूल चढ़े,और चढ़े मेवा।
लड्डुअन का भोग लगे,सन्त करें सेवा॥
पान चढ़े फूल चढ़े,और चढ़े मेवा।
हार चढ़े, फूल चढ़े,और चढ़े मेवा।
लड्डुअन का भोग लगे,सन्त करें सेवा॥

जय गणेश, जय गणेश,जय गणेश देवा।
माता जाकी पार्वती,पिता महादेवा॥
जय गणेश, जय गणेश,जय गणेश देवा।
माता जाकी पार्वती,पिता महादेवा॥

अँधे को आँख देत,कोढ़िन को काया।
बाँझन को पुत्र देत,निर्धन को माया॥
अँधे को आँख देत,कोढ़िन को काया।
बाँझन को पुत्र देत,निर्धन को माया॥

‘सूर’ श्याम शरण आए,सफल कीजे सेवा।
माता जाकी पार्वती,पिता महादेवा॥
‘सूर’ श्याम शरण आए,सफल कीजे सेवा।
माता जाकी पार्वती,पिता महादेवा॥

दीनन की लाज राखो,शम्भु सुतवारी।
कामना को पूर्ण करो,जग बलिहारी॥

जय गणेश, जय गणेश,जय गणेश देवा।
माता जाकी पार्वती,पिता महादेवा॥

Ganesh Ji Ki Aarti Lyrics Video 

Below is the video for Ganesh Ji Ki Aarti ki from Youtube

Ram Ji Ki Aarti – Shri Ramchandra Kripalu Bhajman

Shri Ram Aarti titled Shri Ramchandra Kripalu Bhajman is the very famous Ram Ji Aarti and Ram Navmi special song. This Ram Ji Ki Aarti is sung on many ocassions related to Lord Ram worship.

Ram Ji Ki Aarti - Shri Ramchandra Kripalu Bhajman - Aarti Sangrah in Hindi

Song: Shri Ramchandra Kripalu Bhajman
Singer: Satish Dehra
Lyrics: Traditional
Album: Aarti Sangrah

Shri Ramchandra Kripalu Bhajman Lyrics

श्री रामचन्द्र कृपालु भजु मन,हरण भवभय दारुणम्।
नव कंज लोचन, कंज मुख करकंज पद कंजारुणम्॥
श्री रामचन्द्र कृपालु भजु मन…॥

कन्दर्प अगणित अमित छवि,नव नील नीरद सुन्दरम्।
पट पीत मानहुं तड़ित रूचि-शुचिनौमि जनक सुतावरम्॥
श्री रामचन्द्र कृपालु भजु मन…॥

भजु दीनबंधु दिनेशदानव दैत्य वंश निकन्दनम्।
रघुनन्द आनन्द कन्द कौशलचन्द्र दशरथ नन्द्नम्॥
श्री रामचन्द्र कृपालु भजु मन…॥

Aarti Shri Ramchandra Kripalu Bhajman Lyrics Video 

Below is the video for Aarti Shri Ramchandra Kripalu Bhajman from Youtube

Saraswat Maa Arti Sangrah in Hindi

Saraswati Aarti in our Aarti Sangrah is also one of the important Aarti for Maa Saraswati. Anuradha Paudwal has sung this song and T-Series has released the song. Read the Saraswati Maa Aarti Lyrics.

Saraswati Aarti: Om Jai Saraswati Mata
Singer: Anuradha Paudwal
Composer: Arun Paudwal
Lyrics: Traditional

Saraswat Maa Arti Lyrics in Hindi

ॐ जय सरस्वती माता, जय जय सरस्वती माता
सदगुण वैभव शालिनी, सदगुण वैभव शालिनी
त्रिभुवन विख्याता, जय जय सरस्वती माता

ॐ जय सरस्वती माता, जय जय सरस्वती माता
सदगुण वैभव शालिनी, सदगुण वैभव शालिनी
त्रिभुवन विख्याता, जय जय सरस्वती माता

चन्द्रबदनि पद्मासिनि, कृति मंगलकारी
मैय्या कृति मंगलकारी
सोहे शुभ हंस सवारी, सोहे शुभ हंस सवारी
अतुल तेज धारी
जय जय सरस्वती माता

बाएं कर में वीणा, दाएं कर माला
मैय्या दाएं कर माला
शीश मुकुट मणि सोहे, शीश मुकुट मणि सोहे
गल मोतियन माला
जय जय सरस्वती माता

देवी शरण जो आए, उनका उद्धार किया
मैय्या उनका उद्धार किया
बैठी मंथरा दासी, बैठी मंथरा दासी
रावण संहार किया
जय जय सरस्वती माता

विद्यादान प्रदायनि, ज्ञान प्रकाश भरो
जन ज्ञान प्रकाश भरो
मोह अज्ञान की निरखा, मोह अज्ञान की निरखा
जग से नाश करो
जय जय सरस्वती माता

धूप, दीप, फल, मेवा, माँ स्वीकार करो
ओ माँ स्वीकार करो
ज्ञानचक्षु दे माता, ज्ञानचक्षु दे माता
जग निस्तार करो
जय जय सरस्वती माता

माँ सरस्वती की आरती, जो कोई जन गावै
मैय्या जो कोई जन गावै
हितकारी सुखकारी हितकारी सुखकारी
ज्ञान भक्ति पावै
जय जय सरस्वती माता

जय सरस्वती माता, जय जय सरस्वती माता
सदगुण वैभव शालिनी, सदगुण वैभव शालिनी
त्रिभुवन विख्याता
जय जय सरस्वती माता

ॐ जय सरस्वती माता, जय जय सरस्वती माता
सदगुण वैभव शालिनी, सदगुण वैभव शालिनी
त्रिभुवन विख्याता, जय जय सरस्वती माता

Saraswati Maa Aarti Lyrics Video 

Below is the video for Saraswati Maa Aarti from Youtube – 

Shiv Ji Ki Aarti Lyrics

We again have Shiv Ji Ki Aarti Lyrics video which is sung by Anuradha Paudwal. The Shiv Ji Ki Aarti is also released under T-Series Bhakti Sagar channel.

Shiv Bhajan: Om Jai Shiv Omkara
Album: AARTI
Singer: ANURADHA PAUDWAL
Composer: SHEKHAR SEN
Lyrics: TRADITIONAL

Shiv Ji Ki Aarti Lyrics in Hindi

ॐ जय शिव ओंकारा,स्वामी जय शिव ओंकारा।
ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव,अर्द्धांगी धारा॥
ॐ जय शिव ओंकारा॥

एकानन चतुराननपञ्चानन राजे।
हंसासन गरूड़ासनवृषवाहन साजे॥
ॐ जय शिव ओंकारा॥

दो भुज चार चतुर्भुजदसभुज अति सोहे।
त्रिगुण रूप निरखतेत्रिभुवन जन मोहे॥
ॐ जय शिव ओंकारा॥

अक्षमाला वनमालामुण्डमाला धारी।
त्रिपुरारी कंसारीकर माला धारी॥
ॐ जय शिव ओंकारा॥

श्वेताम्बर पीताम्बरबाघम्बर अंगे।
सनकादिक गरुणादिकभूतादिक संगे॥
ॐ जय शिव ओंकारा॥

कर के मध्य कमण्डलुचक्र त्रिशूलधारी।
सुखकारी दुखहारीजगपालन कारी॥
ॐ जय शिव ओंकारा॥

ब्रह्मा विष्णु सदाशिवजानत अविवेका।
प्रणवाक्षर मध्येये तीनों एका॥
ॐ जय शिव ओंकारा॥

लक्ष्मी व सावित्रीपार्वती संगा।
पार्वती अर्द्धांगी,शिवलहरी गंगा॥
ॐ जय शिव ओंकारा॥

पर्वत सोहैं पार्वती,शंकर कैलासा।
भांग धतूर का भोजन,भस्मी में वासा॥
ॐ जय शिव ओंकारा॥

जटा में गंगा बहत है,गल मुण्डन माला।
शेष नाग लिपटावत,ओढ़त मृगछाला॥
ॐ जय शिव ओंकारा॥

काशी में विराजे विश्वनाथ,नन्दी ब्रह्मचारी।
नित उठ दर्शन पावत,महिमा अति भारी॥
ॐ जय शिव ओंकारा॥

त्रिगुणस्वामी जी की आरतीजो कोइ नर गावे।
कहत शिवानन्द स्वामी,मनवान्छित फल पावे॥
ॐ जय शिव ओंकारा॥

Shiv Ji Ki Aarti Lyrics Video 

Below is the video for Shiv Ji Ki Aarti from Youtube – 

Om Jai Laxmi Maata Lyrics – Laxmi Maa Aarti 

Om Jai Laxmi Maata is the Laxmi Maa Aarti in our Aarti Sangrah in Hindi collection. This in the form of aarti bhajan is sung by Sanjeevani Bhelande.

Singer: Sanjeevani Bhelande
Composer: Traditional
Lyrics: Traditional
Music Producer/Arranger: Surinder Sodhi
Album: Aarti Sangrah

Om Jai Laxmi Maata Lyrics in Hindi 

ॐ जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता ।
तुमको निशिदिन सेवत, हरि विष्णु विधाता ॥
ॐ जय लक्ष्मी माता ॥

उमा, रमा, ब्रह्माणी, तुम ही जग-माता ।
सूर्य-चन्द्रमा ध्यावत, नारद ऋषि गाता ॥
ॐ जय लक्ष्मी माता ॥

दुर्गा रुप निरंजनी, सुख सम्पत्ति दाता ।
जो कोई तुमको ध्यावत, ऋद्धि-सिद्धि धन पाता ॥
ॐ जय लक्ष्मी माता ॥

तुम पाताल-निवासिनि, तुम ही शुभदाता ।
कर्म-प्रभाव-प्रकाशिनी, भवनिधि की त्राता ॥
ॐ जय लक्ष्मी माता ॥

जिस घर में तुम रहतीं, सब सद्गुण आता ।
सब सम्भव हो जाता, मन नहीं घबराता ॥
ॐ जय लक्ष्मी माता ॥

तुम बिन यज्ञ न होते, वस्त्र न कोई पाता ।
खान-पान का वैभव, सब तुमसे आता ॥
ॐ जय लक्ष्मी माता ॥

शुभ-गुण मन्दिर सुन्दर, क्षीरोदधि-जाता ।
रत्न चतुर्दश तुम बिन, कोई नहीं पाता ॥
ॐ जय लक्ष्मी माता ॥

महालक्ष्मी जी की आरती, जो कोई जन गाता ।
उर आनन्द समाता, पाप उतर जाता ॥
ॐ जय लक्ष्मी माता ॥

Om Jai Laxmi Maata Lyrics Video

Below is the video for Om Jai Laxmi Maata from Youtube

Aarti Sangrah in Hindi Download Links

Here is the list for all kinds of Downloads available for Aarti Sangrah. Have a look! 

Aarti Sangrah in Hindi Free Ebook PDF Download 

We have compiled an exhaustive list of all the famous Aarti Sangrah. You can DOWNLOAD the Aarti Sangrah Hindi PDF Ebook for free!

Aarti Sangrah in Hindi Audio Download Options

Stream or download Aarti Sangrah from any of these platforms. All these streaming plaltforms offer free download of Aarti Sangrah mp3.

Read our Devotional Collections