घेरे Ghere Lyrics – An Action Hero

घेरे Ghere Lyrics – The song Ghere is from the Ayushman Khurana starrer move An Action Hero. The song is sung by Vivek Hariharan, Parag Chhabra. Vayu has penned the Ghere Lyrics.

घेरे Ghere Lyrics - An Action Hero

घेरे Ghere Lyrics in Hindi

भेजे में पहले कोई डंग डंग वज्जदी हैं
हवा में गूंजते है रंग कई..

चुप से पानी में जो कंकड़ पड़ गया
छिपी लकीरें चल पड़ी..

अरे दिन कहीं डूबा हैं, हुयी कहीं सुबह हैं
दुनिया चलती हैं सर्कल पे..

सर जो ये उठा हैं गर्दा ही मचा हैं
धड़कनों की जैसे हलचल पे..

दर्द ही दवा हैं अपना ही नशा हैं
जी ले ज़िंदगी मर मर के..
सबको मैं नचा के रख दूंगा हिला के
अब ना रहना हैं डर डर के..

घेरे में घेरे में घेरे में घेरे में
रखली रात आज घेरे में..

घेरे में घेरे में घेरे में घेरे में
रखली रात आज घेरे में..

घेरे में घेरे में घेरे में घेरे में
रखली रात आज घेरे में..

घेरे में घेरे में घेरे में घेरे में
रखली रात आज घेरे में..

घेरे हैं..

आसमान के तारे सारे चाहे झर गये
जुगनुओं ने करी रौशनी हैं..

सुस्त थे जो साले दिन वो गुज़र गये
जागी हैं सनसनी..

अरे आग ने छुआ हैं उठ रहा धुआं हैं
लावा निकला है पत्थर से..

रास्ता नया हैं अब बन गया हैं
पानियों से कट करके..

सामने जो आये काम से वो जाये
छोटे चल थोड़ा बच करके..

ज़िद से हूँ भरा मैं बिजली सा गिरा मैं
बादलों से ऐसे फट करके..

घेरे में घेरे में घेरे में घेरे में
रखली रात आज घेरे में..

घेरे में घेरे में घेरे में घेरे में
रखली रात आज घेरे में..

घेरे में घेरे में घेरे में घेरे में
रखली रात आज घेरे में..

घेरे में घेरे में घेरे में घेरे में
रखली रात आज..

घेरे हैं..

सवेरे से ज्यादा अँधेरे है दीखते है चेहरे पे
घाव बड़े गेहरे चट्टान टूट जाते है..

हम तो हीरे है कोयले में पले है
फिर भी जी रहे है..

लड़ेंगे तो शान से ईमान हैं अपना
लड़ने से डरते नहीं काम हैं अपना..

रात तो हैं घेरे में अकेले ही झेलेंगे
ज़रूर खेलेनेगे टाइम हैं अपना..

अरे दिन कहीं डूबा हैं हुयी कहीं सुबह हैं
दुनिया चलती हैं सर्कल पे..

सर जो ये उठा हैं गर्दा ही मचा हैं
धड़कनों की जैसे हलचल पे..

दर्द ही दवा हैं अपना ही नशा हैं
जी ले ज़िंदगी मर मर के..

सबको मैं नचा के रख दूंगा हिला के
अब ना रहना हैं डर डर के..

घेरे में घेरे में घेरे में घेरे में
रखली रात आज घेरे में..

घेरे में घेरे में घेरे में घेरे में
रखली रात आज घेरे में..

घेरे में घेरे में घेरे में घेरे में
रखली रात आज घेरे में..

घेरे में घेरे में घेरे में घेरे में
रखली रात आज..

घेरे है
घेरे है..

Ghere Lyrics

Bheje mein pehle koyi
Dang dang vajjdi hai
Hawa mein goonjte hain rang kayi

Chup se paani mein
Jo kankad pad gaya
Chhipi lakeerein chal padi

Arre din kahin dooba hai
Huyi kahin subah hai
Duniya chalti hai circle pe
Sar jo yeh utha hai
Garda hi macha hai
Dhadkanon ki jaise halchal pe

Dard hi dawa hai
Apna hi nasha hai
Jee le zindagi mar mar ke
Sabko main nacha ke
Rakh doonga hila ke
Ab na rehna hai dar dar ke

Ghere mein ghere mein
Ghere mein ghere mein
Rakh li raat aaj ghere mein
Ghere mein ghere mein
Ghere mein ghere mein
Rakh li raat aaj ghere mein

Ghere mein ghere mein
Ghere mein ghere mein
Rakh li raat aaj ghere mein
Ghere mein ghere mein
Ghere mein ghere mein
Rakh li raat aaj ghere mein
Ghere hain

Aasmaan ke taare saare jhar gaye
Jugnuon ne kari roshni hai
Sust the jo saale din wo guzar gaye
Jaagi hai sansani

Arre aag ne chhua hai
Uth raha dhuan hai
Lawa nikla hai patthar hai
Raasta naya hai ab ban gaya hai
Paaniyon se kat karke

Saamne jo aaye kaam se wo jaaye
Chhote chal thoda bach karke
Zid se hoon bhara main
Bijli sa gira main
Baadlon se aise phat karke

Ghere mein ghere mein
Ghere mein ghere mein
Rakh li raat aaj ghere mein
Ghere mein ghere mein
Ghere mein ghere mein
Rakh li raat aaj ghere mein

Ghere mein ghere mein
Ghere mein ghere mein
Rakh li raat aaj ghere mein
Ghere mein ghere mein
Ghere mein ghere mein
Rakh li raat aaj

Ghere mein ghere mein
Ghere mein ghere mein
Rakh li raat aaj ghere mein
Ghere mein ghere mein
Ghere mein ghere mein
Rakh li raat aaj ghere mein

Ghere hain!

Sawere se zyada andhere hain
Dikhte hain chehre pe
Ghaav bade gehre
Chattan toot jaate hain
Hum to heere hain
Koyale mein pale hain
Phir bhi jee rahe hain
Ladenge to shaan se imaan hai apna
Ladne se darte nahi kaam hai apna
Raat to hai ghere mein
Akele hi jhelenge
Zaroor khelenege time hai apn

Arre din kahin dooba hai
Huyi kahin subah hai
Duniya chalti hai circle pe
Sar jo yeh utha hai
Garda hi macha hai
Dhadkanon ki jaise halchal pe

Dard hi dawa hai
Apna hi nasha hai
Jee le zindagi mar mar ke
Sabko main nacha ke
Rakh doonga hila ke
Ab na rehna hai dar dar ke

Ghere mein ghere mein
Ghere mein ghere mein
Rakh li raat aaj ghere mein
Ghere mein ghere mein
Ghere mein ghere mein
Rakh li raat aaj ghere mein

Ghere mein ghere mein
Ghere mein ghere mein
Rakh li raat aaj ghere mein
Ghere mein ghere mein
Ghere mein ghere mein
Rakh li raat aaj

Ghere hain
Ghere hain

Ghere Lyrics Song Details and Video

Song: Ghere
Music Composed, Produced and Arranged by: Parag Chhabra
Lyrics: Vayu
Singer: Vivek Hariharan, Parag Chhabra
Rap performed and written by: D’Evil
Music Producers: Parag Chhabra, Zrya, Nakul Chugh
Music Production Supervisor: Zrya

Latest Songs!

Most Loved!