Trilochan

TrilochanTrilochan was an eminent Hindi poet who was also an editor of various publications such as Prabhakar, Hans, Aaj etc. He mainly wrote about the social system and was always in the support of the weaker sections of society.

कवि त्रिलोचन को हिन्दी साहित्य की प्रगतिशील काव्यधारा का प्रमुख हस्ताक्षर माना जाता है. वे आधुनिक हिंदी कविता की प्रगतिशील त्रयी के तीन स्तंभों में से एक थे. इस त्रयी के अन्य दो सतंभ नागार्जुन व शमशेर बहादुर सिंह थे. त्रिलोचन ने भाषा शैली और विषयवस्तु सभी में अपनी अलग छाप छोड़ी. त्रिलोचन ने वही लिखा जो कमज़ोर के पक्ष में था. वो मेहनतकश और दबे कुचले समाज की एक दूर से आती आवाज़ थे.

Some of Trilochan Top Poems- 

Read All poems of Trilochan listed here –