Meer Taqi Meer

Meer Taqi MeerMir Muhammad Taqi, known as Meer Taqi Meer, was an Urdu poet of the 18th century Mughal India and one of the pioneers who gave shape to the Urdu language itself. He was one of the principal poets of the Delhi School of the Urdu ghazal and is often remembered as one of the best poets of the Urdu language.

His pen name (takhallus) was Mir (میر). He spent the latter part of his life in the court of Asaf-ud-Daulah in Lucknow.

ख़ुदा-ए-सुखन मोहम्मद तकी उर्फ मीर तकी “मीर” उर्दू एवं फ़ारसी भाषा के महान शायर थे। मीर को उर्दू के उस प्रचलन के लिए याद किया जाता है जिसमें फ़ारसी और हिन्दुस्तानी के शब्दों का अच्छा मिश्रण और सामंजस्य हो।

अहमद शाह अब्दाली और नादिरशाह के हमलों से कटी-फटी दिल्ली को मीर तक़ी मीर ने अपनी आँखों से देखा था। इस त्रासदी की व्यथा उनकी रचनाओं मे दिखती है।

मीर की ग़ज़लों के कुल ६ दीवान हैं। इनमें से कई शेर ऐसे हैं जो मीर के हैं या नहीं इस पर विवाद है। इसके अलावा कई शेर या कसीदे ऐसे हैं जो किसी और के संकलन में हैं पर ऐसा मानने वालों की कमी नहीं कि वे मीर के हैं।

Some of Meer Taqi Meer Top Shayari’s – 

Read All poems of Meer Taqi Meer listed here – 

 

[Bio Credit – Wikipedia]