Jigar Moradabadi

Jigar MoradabadiAli Sikandar (6 April 1890 – 9 September 1960), known by his nom de plume as Jigar Moradabadi, was an Indian Urdu poet and ghazal writer. He received the Sahitya Akademi Award Award in 1958 for his poetry collection “Atish-e-Gul”, and was the second poet (after Mohammad Iqbal) to be awarded an honorary D.Litt. by the Aligarh Muslim University.

जिगर मुरादाबादी 20 वीं सदी के सबसे प्रसिद्ध उर्दू कवि और उर्दू गजल के प्रमुख हस्ताक्षरों में से एक। उनकी अत्यधिक प्रशंसित कविता संग्रह “आतिश-ए-गुल” के लिए उन्हें 1958 में साहित्य अकादमी पुरस्कार प्रदान किया गया।

‘जिगर’ पहले मिर्ज़ा ‘दाग’ के शिष्य थे। बाद में ‘तसलीम’ के शिष्य हुए। ‘जिगर’ साहब का शेर पढ़ने का ढंग कुछ ऐसा था कि उस समय के युवा शायर उनके जैसे शेर कहने और उन्हीं के अंदाज़ को अपनाने की कोशिश किया करते थे। इतना ही नहीं उनके जैसा होने के लिए नए शायरों की पौध उनकी ही तरह रंग-रूप करने का जतन करती थी।

Some of Jigar Moradabadi Top Shayari’s – 

Read All poems of Jigar Moradabadi listed here –