Hasrat Mohani

Hasrat MohaniSyed Fazl-ul-Hasan (14 October 1875 – 13 May 1951), known by his pen-name Hasrat Mohani, was an Indian activist, freedom Fighter in the Indian independence movement and a noted poet of the Urdu language.

He coined the notable slogan Inquilab Zindabad (translation of “Long live the revolution!”) in 1921. Together with Swami Kumaranand, he is regarded as the first person to demand complete independence for India in 1921 at the Ahmedabad Session of the Indian National Congress.

हसरत मोहानी हिन्दू मुस्लिम एकता के पक्षधर थे। उन्होंने तो श्रीकृष्ण की भक्ति में भी शायरी की है। वह बाल गंगाधर तिलक व भीमराव अम्बेडकर के करीबी दोस्त थे। 1946 में जब भारतीय संविधान सभा का गठन हुआ तो उन्हें उत्तर प्रदेश राज्य से संविधान सभा का सदस्य चुना गया।

1947 के भारत विभाजन का उन्होंने विरोध किया और हिन्दुस्तान में रहना पसंद किया। 13 मई 1951 को मौलाना साहब का अचानक निधन हो गया।

उन्होंने अपने कलामो में हुब्बे वतनी, मुआशरते इस्लाही,कौमी एकता, मज़हबी और सियासी नजरियात पर प्रकाश डाला है। 2014 में भारत सरकार द्वारा उनके सम्मान में डाक टिकट भी जारी किया है।

Some of Hasrat Mohani Top Shayari’s – 

Read All poems of Hasrat Mohani listed here – 

 

[Bio Credit – Wikipedia]