एक ही मुश्दा सुभो लाती है – जॉन एलिया

Ek hi mushdaa subho laati hai (एक ही मुश्दा सुभो लाती है) –  जॉन एलिया की बेहद लोकप्रिय ग़ज़ल पढ़िए. तान्हाई और अकेलेपन के दर्द को बयां करती ये शायरी, खुद उनकी ही आवाज़ में सुनिए नीचे दिए गए लिंक में.

Ek hi mushdaa subho laati hai (एक ही मुश्दा सुभो लाती है)

एक ही मुश्दा सुभो लाती है
ज़हन में धूप फैल जाती है

सोचता हूँ के तेरी याद आखिर
अब किसे रात भर जगाती है

फर्श पर कागज़ो से फिरते है
मेज़ पर गर्द जमती जाती है

मैं भी इज़न-ए-नवागरी चाहूँ
बेदिली भी तो नब्ज़ हिलाती है

आप अपने से हम सुखन रहना
हमनशी सांस फूल जाती है

आज एक बात तो बताओ मुझे
ज़िन्दगी ख्वाब क्यो दिखाती है

क्या सितम है कि अब तेरी सूरत
गौर करने पर याद आती है

कौन इस घर की देख भाल करे
रोज़ एक चीज़ टूट जाती है

Ek Hi Mushdaa Subho Laati Hai (English Font)

Ek hi mushdaa subho laati hai
Zehan men dhoop fail jaati hai

Sochataa hoon ke teri yaad aakhir
Ab kise raat bhar jagaati hai

Farsh par kaagajo se firate hai
Mej par gard jamati jaati hai

Main bhi ijn-e-navaagari chaahoon
Bedili bhi to nabj hilaati hai

Aap apane se ham sukhan rahanaa
Hamanashi saans fool jaati hai

Aaj ek baat to bataao mujhe
Zindagii khvaab kyo dikhaati hai

Kyaa sitam hai ki ab terii soorat
Gaur karane par yaad aati hai

Kaun is ghar kii dekh bhaal kare
Roj ek chiij TooT jaatii hayo

Want More Like This?

Get Hindi and Punjabi Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes directly in your MailBox

Ghazals Latest!