यह समय अभी क्या बात मेरी सुनेगा – त्रिलोचन

Trilochan was an eminent hindi poet who was widely popular. Read his hindi poem “Kya Yah Samay Meri Baat Sunega”. त्रिलोचन को हिन्दी साहित्य प्रगतिशील काव्यधारा का एक स्तम्भ माना जाता है. पढ़िए उनकी लिखी एक कविता “यह समय अभी क्या बात मेरी सुनेगा”

Trilochan

यह समय अभी क्या बात मेरी सुनेगा
रुक कर पथ में ही या यथापूर्व आगे
प्रतिपल बढ़ता ही जाएगा और पीछे
फिर कर न तकेगा बात जैसी रही है ।

युग पिछड़ गए हैं, आज कोई कहानी
सुन कर दुहराना भी नहीं चाहता है
पग पग चल आए पैर पृथ्वी अभी है
यदि ठहर गए तो बात की बात क्या है ।

घिर-घिर घन आए, व्योम ने गान गाया,
फिर फिर नव वर्ष्जा नृत्य अपना दिखा के
जल बन कर छाई, भूमि ने रंग पाए
खिल खिल कर पौधे भेंट जैसे खड़े हैं ।

शश उछल रहे हैं घास के बीच जैसे
घन धवल कहीं हों व्योम की नीलिमा में
तृण हरित समेटे ताल ध्यानस्थ से हैं
ध्वनि उमड़ रही है वायु में सारसों की ।

रँग रँग उठता है छोर कोई दिशा का
उठ उठ कर पौधे धान के ताकते हैं
सुरभि लहर लेती व्योम को बासती है
रस बस कर मेरी बात भी खेलती है ।

Yah Samay Abhi Kya Baat Meri Sunega

Yah samay abhii kyaa baat merii sunegaa
Ruk kar path men hii yaa yathaapoorv aage
Pratipal badhtaa hii jaaegaa aur piichhe
fir kar n takegaa baat jaisii rahii hai

Yug pichhad gae hain, aaj koii kahaanii
Sun kar duharaanaa bhii nahiin chaahataa hai
Pag pag chal aae pair prithvii abhii hai
yadi Thahar gae to baat kii baat kyaa hai

Ghir-ghir ghan aae, vyom ne gaan gaayaa,
Fir fir nav varSjaa nrity apanaa dikhaa ke
Jal ban kar chhaaii, bhoomi ne rang paae
Khil khil kar paudhe bhenT jaise khade hain

Shash uchhal rahe hain ghaas ke biich jaise
Ghan dhaval kahiin hon vyom kii niilimaa men
TriN harit sameTe taal dhyaanasth se hain
Dhvani umad rahii hai vaayu men saarason kii

Rang rang uthataa hai chhor koii dishaa kaa
Uth uth kar paudhe dhaan ke taakate hain
Surabhi lahar letii vyom ko baasatii hai
Ras bas kar merii baat bhii khelatii hai

Want More Like This?

Get Hindi and Punjabi Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes directly in your MailBox

Poetry Latest!

Most Loved!

Latest Posts!