सितम हवा का अगर तेरे तन को रास नहीं – वज़ीर आग़ा

The ghazal “Sitam Hawa Ka Agar Tere Tan Ko Raas Nahi” by the urdu poet Wazir Agha. वज़ीर आग़ा एक बेहद प्रसिद्ध और विशिष्ट शायर हैं. सुनिए उनकी ग़ज़ल “सितम हवा का अगर तेरे तन को रास नहीं”.

Wazir Aagha

सितम हवा का अगर तेरे तन को रास नहीं
कहाँ से लाऊँ वो झोंका जो मेरे पास नहीं

पिघल चुका हूँ तमाज़त में आफ़ताब की मैं
मेरा वजूद भी अब मेरे आस-पास नहीं

मेरे नसीब में कब थी बरहनगी अपनी
मिली वो मुझ को तमन्ना की बे-लिबास नहीं

किधर से उतरे कहाँ आ के तुझसे मिल जाए
अभी नदी के चलन से तू रु-शनास नहीं

खुला पड़ा है समंदर किताब की सूरत
वही पढ़े इसे आकर जो ना-शनास नहीं

लहू के साथ गई तन-बदन की सब चहकार
चुभन सबा में नहीं है कली में बास नहीं

अर्थ : तमाज़त – गर्मी
बरहनगी – नग्नता
रु-शनास – वाकिफ़

Sitam Hawa Ka Agar Tere Tan Ko Raas Nahi

Sitam hawa ka agar tere tan ko raas nahi
Kahaan se laaoon vo jhonkaa jo mere paas nahiin

Pighal chukaa hoon tamaajt men aaftaab kii main
meraa vajood bhii ab mere aas-paas nahiin

Mere nasiib men kab thii barahanagii apanii
Milii vo mujh ko tamanaa kii be-libaas nahin

Kidhar se utare kahaan aa ke tujhase mil jaae
Abhii nadii ke chalan se too ru-shanaa nahiin

Khulaa padaa hai samandar kitaab kii surat
Vahi padhe ise aakar jo naa-shanaas nahiin

Lahoo ke saath gaii tan-badan kii sab chahakaar
Chubhan sabaa men nahiin hai kalii men baas nahiin

 

Want More Like This?

Get Hindi and Punjabi Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes directly in your MailBox

Ghazals Latest!

Most Loved!

Latest Posts!