सिखा दिया है ज़माने ने बे-बसर रहना – वज़ीर आग़ा

The ghazal “Sikha Diya Hai Zamane Ne Be-basar Rahna” by the urdu poet Wazir Aagha. वज़ीर आग़ा एक बेहद प्रसिद्ध और विशिष्ट शायर हैं. सुनिए उनकी ग़ज़ल “सिखा दिया है ज़माने ने बे-बसर रहना”.

Wazir Aagha

सिखा दिया है ज़माने ने बे-बसर रहना
ख़बर की आँच में जल कर भी बे-ख़बर रहना

सहर की ओस से कहना कि एक पल तो रुके
कि ना-पसंद है हम को भी ख़ाक पर रहना

तमाम उम्र ही गुज़री है दस्तकें सुनते
हमें तो रास न आया ख़ुद अपने घर रहना

वो ख़ुश-कलाम है ऐसा कि उस के पास हमें
तवील रहना भी लगता है मुख़्तसर रहना

सफ़र अज़ीज़ हवा को मगर अज़ीज़ हमें
मिसाल-ए-निकहत-ए-गुल उस का हम-सफ़र रहना

शजर पे फूल तो आते रहे बहुत लेकिन
समझ में आ न सका उस का बे-समर रहना

अजीब तर्ज़-ए-तकल्लुम है उस की आँखों का
ख़मोश रह के भी लफ़्ज़ों की धार पर रहना

वरक़ वरक़ न सही उम्र-ए-राएगाँ मेरी
हवा के साथ मगर तुम न उम्र भर रहना

ज़रा सी ठेस लगी और घर को ओढ़ लिया
कहाँ गया वो तुम्हारा नगर नगर रहना

Sikha Diya Hai Zamane Ne Be-basar Rahna

Sikha diya hai zamane ne be-basar rahna
ḳhabar ki aanch men jal kar bhi be-ḳhabar rahna

Sahar ki os se kahna ki ek pal to ruke
Ki na-pasand hai ham ko bhi ḳhaak par rahna

Tamam umr hī guzri hai dastaken sunte
Hamen to raas na aaya ḳhud apne ghar rahna

Vo ḳhush-kalam hai aisa ki us ke paas hamen
Tavīl rahna bhi lagta hai muḳhtasar rahna

Safar aziiz hava ko magar aziiz hameñ
Misal-e-nik.hat-e-gul us ka ham-safar rahna

Shajar pe phuul to aate rahe bahut lekin
Samajh mein aa na saka us ka be-samar rahna

Ajiib tarz-e-takallum hai us ki ankhon ka
Khamosh rah ke bhi lafzon ki dhaar par rahna

Varaq varaq na sahi umr-e-ra.egān meri
Hawa ke saath magar tum na umr bhar rahna

Zara si thes lagi aur ghar ko odh liya
Kahān gaya vo tumhara nagar nagar rahna

Want More Like This?

Get Hindi and Punjabi Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes directly in your MailBox

Ghazals Latest!

Most Loved!

Latest Posts!