क्यों बाकी है – शमशेर बहादुर सिंह

शमशेर बहादुर सिंह सम्पूर्ण आधुनिक हिन्दी कविता में एक अति विशिष्ट कवि के रूप में मान्य है. उनकी एक चर्चित कविता “क्यों बाकी है” पढ़े.

Shamsher Bahadur Singh

उलट गए सारे पैमाने कासागरी क्यों बाकी है।
देस के देस उजाड़ हुए दिल की नगरी क्यों बाकी है।

कौन है अपना कौन पराया छोड़ो भी इन बातों को
इक हम तुम हैं खैर से अपनी पर्दादरी क्यों बाकी है।

शायद भूले भटके किसी को रात हमारी याद आई
सपने में जब आन मिले फिर बेखबरी क्यों बाकी है।

किसका सांस है मेरे अंदर इतने पास औ इतनी दूर
इस नज़दीकी में दूरी की हम सफ़री क्यों बाकी है।

बीत गये युग फिर भी जैसे कल ही तुमको देखा हो
दिल में औ’ आंखों में तुम्हारी खुशनज़री क्यों बाकी है।

शोर भजन कीर्तन का है या फ़िल्मी धुनों का हंगामा
सर पे ही लाउडस्पीकर की टेढ़ी छतरी क्यों बाकी है।

धर्म तिजारत पेशा था जो वही हमें ले डूबा है
बीच भंवर के सौदे में यह एक खंजरी क्यों बाकी है।

Kyun Baaki Hai – Shamsher

Ulat gae saare paimaane kaasaagarii kyon baakii hai.
des ke des ujaad hue dil kii nagarii kyon baakii hai.

Kaun hai apanaa kaun paraayaa chhodo bhii in baaton ko
Ik ham tum hain khair se apanii pardaadarii kyon baakii hai.

Shaayad bhoole bhaTake kisii ko raat hamaarii yaad aaii
Sapane men jab aan mile fir bekhabarii kyon baakii hai.

Kisakaa saans hai mere andar itane paas au itanii door
Is najdiikii men doorii kii ham safrii kyon baakii hai.

Beet gaye yug fir bhii jaise kal hii tumako dekhaa ho
Dil men au’ aankhon men tumhaarii khushanajrii kyon baakii hai.

Shor bhajan kiirtan kaa hai yaa filmii dhunon kaa hangaamaa
Sar pe hii laaudaspiikar kii Tedhii chhatarii kyon baakii hai.

Dharm tijaarat peshaa thaa jo vahii hamen le doobaa hai
Biich bhanvar ke saude men yah ek khanjarii kyon baakii hai.

 

Want More Like This?

Get Hindi and Punjabi Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes directly in your MailBox

Poetry Latest!

Most Loved!

Latest Posts!