कौन-सी बात कहाँ , कैसे कही जाती है – वसीम बरेलवी

वसीम बरेलवी जो कि उर्दू शायरी के ये एक बेहद प्रसिद्ध शायर हैं, उनकी ये खूबसूरत ग़ज़ल पढ़िए जिसका शीर्षक है – “कौन-सी बात कहाँ , कैसे कही जाती है”.

वसीम बरेलवी Waseem Barelvi

कौन-सी बात कहाँ, कैसे कही जाती है
ये सलीक़ा हो, तो हर बात सुनी जाती है

जैसा चाहा था तुझे, देख न पाये दुनिया
दिल में बस एक ये हसरत ही रही जाती है

एक बिगड़ी हुई औलाद भला क्या जाने
कैसे माँ-बाप के होंठों से हँसी जाती है

कर्ज़ का बोझ उठाये हुए चलने का अज़ाब
जैसे सर पर कोई दीवार गिरी जाती है

अपनी पहचान मिटा देना हो जैसे सब कुछ
जो नदी है वो समंदर से मिली जाती है

पूछना है तो ग़ज़ल वालों से पूछो जाकर
कैसे हर बात सलीक़े से कही जाती है

Kaun-sii baat kahaan, kaise kahii jaatii hai

Kaun-sii baat kahaan, kaise kahii jaatii hai
Ye saliikaa ho, to har baat sunii jaatii hai

Jaisaa chaahaa thaa tujhe, dekh n paaye duniyaa
Dil men bas ek ye hasarat hii rahii jaatii hai

Ek bigaDii huii aulaad bhalaa kyaa jaane
Kaise maan-baap ke honThon se hansii jaatii hai

Karj kaa bojh uThaaye hue chalane kaa ajaab
jaise sar par koii diivaar girii jaatii hai

Apanii pahachaan miTaa denaa ho jaise sab kuchh
Jo nadii hai vo samandar se milii jaatii hai

Poochhanaa hai to gjl vaalon se poochho jaakar
Kaise har baat saliike se kahii jaatii hai

Want More Like This?

Get Hindi and Punjabi Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes directly in your MailBox

Ghazals Latest!

Most Loved!

Latest Posts!