जब मेरी याद सताए तो मुझे ख़त लिखना – ज़फ़र गोरखपुरी

The ghazal “Jab Meri Yaad Sataye To Mujhe Khat Likhna” by the urdu poet Zafar Gorakhpuri. ज़फ़र गोरखपुरी ऐसे शायर हैं जिसने एक विशिष्ट और आधुनिक अंदाज़ अपनाकर उर्दू ग़ज़ल के क्लासिकल मूड को नया आयाम दिया. उनकी ग़ज़ल “जब मेरी याद सताए तो मुझे ख़त लिखना ” सुनिए आज जिसे गाया है पीनाज मसानी ने.

Zafar Gorakhpuri

Singer – Peenaz Masani
Composer – Kuldeep Singh
Lyrics – Zafar Gorakhpuri

जब मेरी याद सताए तो मुझे ख़त लिखना ।
तुम को जब नींद न आए तो मुझे ख़त लिखना ।।

नीले पेड़ों की घनी छाँव में हँसता सावन,
प्यासी धरती में समाने को तरसता सावन,
रात भर छत पे लगातार बरसता सावन,
दिल में जब आग लगाए तो मुझे ख़त लिखना ।

जब फड़क उठे किसी शाख़ पे पत्ता कोई,
गुदगुदाए तुम्हें बीता हुआ लम्हा कोई,
जब मेरी याद का बेचैन सफ़ीना कोई,
जी को रह-रह के जलाए तो मुझे ख़त लिखना ।

जब निगाहों के लिये कोई नज़ारा न रहे,
चाँद छिप जाए गगन पर कोई सहारा न रहे,
लोग हो जाएँ पराए तो मुझे ख़त लिखना ।

Jab Meri Yaad Sataye To Mujhe Khat Likhna

Jab meri yaad sataye to mujhe khat likhna
Tum ko jab neend na aaye to mujhe khat likhna

Neele pedon ki ghani chanv mein hansata sawan
Pyaasii dharatii men samaane ko tarasataa sawan
Raat bhar chhat pe lagaataar barasataa saavan
Dil men jab aag lagaae to mujhe khat likhanaa

Jab fadak uthe kisii shaakh pe pattaa koii
Gudagudaae tumhen biitaa huaa lamhaa koii,
Jab merii yaad kaa bechain safiinaa koii
Ji ko rah-rah ke jalaae to mujhe kht likhanaa

Jab nigaahon ke liye koii najaaraa n rahe,
Chaand chhip jaae gagan par koii sahaaraa n rahe
Log ho jaaen paraae to mujhe kht likhanaa

Want More Like This?

Get Hindi and Punjabi Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes directly in your MailBox

Latest Posts!

You Might Like These!