बे-ज़बाँ कलियों का दिल मैला किया – वज़ीर आग़ा

The ghazal “Be-Zaban Kaliyon Ka Dil Maila Kiya” by the urdu poet Wazir Agha. वज़ीर आग़ा एक बेहद प्रसिद्ध और विशिष्ट शायर हैं. सुनिए उनकी ग़ज़ल “बे-ज़बाँ कलियों का दिल मैला किया”.

Wazir Aagha

बे-ज़बाँ कलियों का दिल मैला किया
ऐ हवा-ए-सुब्ह तू ने क्या किया

की अता हर गुल को इक रंगीं क़बा
बू-ए-गुल को शहर में रुस्वा किया

क्या तुझे वो सुब्ह-ए-काज़िब याद है
रौशनी से तू ने जब पर्दा किया

बे-ख़याली में सितारे चुन लिए
जगमगाती रात को अंधा किया

जाते जाते शाम यक-दम हंस पड़ी
इक सितारा देर तक रोया किया

रूठ कर घर से गया तू कितनी बार
क्या दर-ओ-दीवार ने पीछा किया

अपनी उर्यानी छुपाने के लिए
तू ने सारे शहर को नंगा किया

Be-Zaban Kaliyon Ka Dil Maila Kiya

Be-zaban kaliyon ka dil maila kiya
Ae hava-e-shubh tu ne kya kiya

Ki ata har gul ko ik rangin qaba
Bu-e-gul ko shahr men rusva kiya

Kya tujhe vo sub.h-e-kazib yaad hai
Roshni se tu ne jab parda kiya

Be-ḳhayali men sitare chun liye
Jagmagati raat ko andha kiya

Jaate jaate shaam yak-dam hans padi
Ik sitara der tak roya kiya

Ruth kar ghar se gaya tu kitni baar
Kya dar-o-divar ne pichha kiya

Apni uryani chhupane ke liye
Tu ne saare shahr ko nanga kiya

Want More Like This?

Get Hindi and Punjabi Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes directly in your MailBox

Ghazals Latest!

Most Loved!

Latest Posts!