Lai Hayat Aae Qaza – Zauq

Lai Hayat Aae Qaza(लायी हयात, आये, क़ज़ा) is a beatiful ghazal by Zauq. The ghazal depicts the lonliness and is beautifully sung by Begum Akhtar.

Lai Hayat Aae Qaza zauq ghazal begum akhtar

Song :- Lai Hayat Aae Qaza
Singer :- Begum Akhtar
Music Director :- Khaiyyaam
Lyricist :- Zauq

Lai Hayat Aae Qaza – Zauq

लायी हयात, आये, क़ज़ा ले चली, चले
अपनी ख़ुशी न आये न अपनी ख़ुशी चले

बेहतर तो है यही कि न दुनिया से दिल लगे
पर क्या करें जो काम न बे-दिल्लगी चले

कम होंगे इस बिसात पे हम जैसे बद-क़िमार
जो चाल हम चले सो निहायत बुरी चले

हो उम्रे-ख़िज़्र भी तो भी कहेंगे ब-वक़्ते-मर्ग
हम क्या रहे यहाँ अभी आये अभी चले

दुनिया ने किसका राहे-फ़ना में दिया है साथ
तुम भी चले चलो युँ ही जब तक चली चले

नाज़ाँ न हो ख़िरद पे जो होना है वो ही हो
दानिश तेरी न कुछ मेरी दानिशवरी चले

जा कि हवा-ए-शौक़ में हैं इस चमन से ‘ज़ौक़’
अपनी बला से बादे-सबा अब कहीं चले

Want More Like This?

Get Hindi and Punjabi Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes directly in your MailBox

Ghazals Latest!

Most Loved!

Latest Posts!