Kya Khoya Kya Paaya – Atal Bihari Vajpayee ft Shahrukh Khan

अटल बिहारी वाजपेयी हमारे पूर्व प्रधानमंत्री थे जो एक विशिष्ट कवि भी थे. आज उनकी एक कविता जिसे गाया है जगजीत सिंह जी ने और जिसका विडियो शाहरुख़ खान पर फिल्माया गया है, वो सुनते हैं. यह अल्बम संवेदना से लिया गया है.

Kya Khoya Kya Paaya - Atal Bihari Vajpayee ft Shahrukh Khan

Album : Samvedna
Song: Kya Khoya Kya Paya
Singer: Jagjit Singh
Music Director: Jagjit Singh
Lyricist: Atal Bihari Vajpayee

Kya Khoya Kya Paaya Lyrics in Hindi

क्या खोया क्या पाया जग में
मिलते और बिछड़ते मग में
मुझे किसी से नहीं शिक़ायत
यद्द्पि छला गया पग पग में
एक दृष्टि बीती पर डालें
यादों की पोटली टटोलें
अपने ही मन से कुछ बोलें

पृथ्वी लाखों वर्ष पुरानी
जीवन एक अनन्त कहानी
पर तन की अपनी सीमाएँ
यद्द्पि सौ शरदों की वाणी

इतना काफ़ी है अंतिम दस्तक
पर ख़ुद दरवाज़ा खोलें
अपने ही मन से कुछ बोलें

जन्म मरण का अविरत फेरा
जीवन बंजारों का डेरा
आज यहां कल कहाँ कूच है
कौन जानता किधर सवेरा

अँधियारा आकाश असीमित
प्राणों के पंखों को तौलें
अपने ही मन से कुछ बोलें

Kya Khoya Kya Paaya Lyrics (Roman)

Kya khoya, kya paya jag mein,
Milte aur bichadte maag mein,
Mujhe kisi se nahi shikayat,
Yadhyapi chala gaya pag pah main,
Ek darishti beeti par dale,
Yado ki potali tatole,
Kya khoya, kya paya jag mein,

Parithvi lakho varsh purani,
Jevaan ek anant kahani,
Par tan ki apni semaye,
Yadhyapi soo shardon ki vani,
Itna kafi hai aantim dastak,
Par khud darwaja khole,
Janam-maran ka avirt phera,
Jevaan banjaro ka dera,
Kya khoya, kya paya jag mein,

Aaj yah, kal kaha kauch hai,
Kaun janta, kidhar sawera,
Aandhiyara aakash asemit,
Prano ke pankho ko toole,
Aapne hi maan se kuch boole
Kya khoya, kya paya jag mein.

Want More Like This?

Get Hindi and Punjabi Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes directly in your MailBox

Poetry Latest!

Most Loved!

Latest Posts!