Deewaron Se Milkar Rona Achha Lagta Hai – Pankaj Udhas

Deewaron Se Milkar Rona ghazal is beautifully sung by Pankaj Udhas. Qaiser-Ul-Jafri has written this ghazal. Pankaj Udhas has also composed the music.

Deewaron Se Milkar Rona Achha Lagta Hai - Pankaj Udhas

Ghazal: Deewaron Se Milkar Rona
Singer: Pankaj Udhas
Composer: Pankaj Udhas
Poet: Qaiser-Ul-Jafri

Deewaron Se Milkar Rona Achha Lagta Hai

दीवारों से मिल कर रोना अच्छा लगता है
हम भी पागल हो जाएँगे ऐसा लगता है

कितने दिनों के प्यासे होंगे यारो सोचो तो
शबनम का क़तरा भी जिन को दरिया लगता है

आँखों को भी ले डूबा ये दिल का पागल-पन
आते जाते जो मिलता है तुम सा लगता है

इस बस्ती में कौन हमारे आँसू पोंछेगा
जो मिलता है उस का दामन भीगा लगता है

दुनिया भर की यादें हम से मिलने आती हैं
शाम ढले इस सूने घर में मेला लगता है

किस को पत्थर मारूँ ‘क़ैसर’ कौन पराया है
शीश-महल में इक इक चेहरा अपना लगता है

Want More Like This?

Get Hindi and Punjabi Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes directly in your MailBox

Ghazals Latest!

Most Loved!

Latest Posts!