First Class Lyrics | Kalank | Arijit Singh | Neeti Mohan

First Class Lyrics | Kalank | Arijit Singh | Neeti Mohan

First Class Lyrics – Kalank: This is a brand new Hindi song from the movie Kalank feat Alia Bhatt & Varun Dhawan. This song is sung by Arijit Singh and Neeti Mohan, composed by Pritam and written by Amitabh Bhattacharya.

Song – First Class
Movie – Kalank
Singers – Arijit Singh, Neeti Mohan
Musicians – Pritam
Lyricists – Amitabh Bhattacharya

First Class Lyrics – Kalank 

Mere hothon se dhuandhaar
Nikalti hai jo boli
Jaise jaise bandook ki goli
Mere tevar mein hai
Tehzeeb ki rangeen rangoli
Waise jaise ho Eid mein holi x (2)

Meri jeevan ki dasha
Thoda raston ka nasha
Thodi manzil ki pyaas hai

Baaki sab first class hai
Baaki sab first class hai
Baaki sab first class hai
Haan kasam se
Baaki sab first class hai

Ho sabke hothon pe charcha tera
Bant’ta galiyon mein parcha tera
Yoon to aashik hain lakhon magar
Sabse ooncha hai darja tera

Jeb mein ho athanni bhale
Chalta noton mein kharcha tera
Yoon to aashik hain lakhon magar
Sabse ooncha hai darja tera
Sabse ooncha hai darja tera

Meri tareef se chhipti phire
Badnaamiyan meri
Jaise jaise ho aankh micholi
Mere tevar mein hai
Tehzeeb ki rangeen rangoli
Waise jaise ho Eid mein holi

Meri jeevan ki dasha
Thoda raston ka nasha
Thodi manzil ki pyaas hai

Baaki sab first class hai
Baaki sab first class hai
Baaki sab first class hai
Haan kasam se
Baaki sab first class hai

FIRST CLASS LYRICS IN HINDI FONT

मेरे होठों से धुआंधार
निकलती है जो बोली
जैसे जैसे बन्दूक की गोली
मेरे तेवर में है
तहज़ीब की रंगीन रंगोली
जैसे जैसे हो ईद में होली
मेरे होठों से धुआंधार
निकलती है जो बोली
जैसे जैसे बन्दूक की गोली
मेरे तेवर में है
तहज़ीब की रंगीन रंगोली
जैसे जैसे हो ईद में होली

मेरे जीवन की दशा
थोड़ा रास्तों का नशा
थोड़ी मंजिल की प्यास है
बाकी सब फर्स्ट क्लास है
बाकी सब फर्स्ट क्लास है
बाकी सब फर्स्ट क्लास है
हाँ कसम से
बाकी सब फर्स्ट क्लास है

पल में तोला, पल में मासा
जैसी बाज़ी वैसा पासा
अपनी थोड़ी हट के दुनियांदारी है
करना क्या है चाँदी सोना
जितना पाना उतना खोना
हम तो दिल के धंधे के व्यापारी हैं

मेरी मुस्कान लिए कभी आती है सुबह
कभी शामें उदास है
बाकी सब फर्स्ट क्लास है
बाकी सब फर्स्ट क्लास है
बाकी सब फर्स्ट क्लास है
हाँ कसम से
बाकी सब फर्स्ट क्लास है

हो सबके होठों पे चर्चा तेरा
बंटता गलियों में पर्चा तेरा
यूँ तो आशिक हैं लाखों मगर
सबसे ऊँचा है दर्जा तेरा
जेब में हो अठन्नी भले
चलता नोटों में खर्चा तेरा
यूँ तो आशिक हैं लाखों मगर
सबसे ऊँचा है दर्जा तेरा
सबसे ऊँचा है दर्जा तेरा

मेरी तारीफ़ से छुपती फिरे बदनामियाँ मेरी
जैसे जैसे हो आँख मिचोली
मेरे तेवर में है
तहज़ीब की रंगीन रंगोली
जैसे जैसे हो ईद में होली

मेरे जीवन की दशा
थोड़ा रास्तों का नशा
थोड़ी मंजिल की प्यास है
बाकी सब फर्स्ट क्लास है
बाकी सब फर्स्ट क्लास है
बाकी सब फर्स्ट क्लास है
हाँ कसम से
बाकी सब फर्स्ट क्लास है, हाँ

Want More Like This?

Get Hindi and Punjabi Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes directly in your MailBox

Latest Lyrics

You would love this!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Get Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes