Zamana Guzra Hai Tufaan E Gam Uthaye Hue – Mumtaz Mirza

ज़माना गुज़रा है तूफ़ान-ए-ग़म उठाए हुए
ग़ज़ल के पर्दे में रूदाद-ए-दिल सुनाए हुए

हमीं थे जिन सु गुनाह-ए-वफ़ा हुआ सरज़द
खड़े हैं दार के साए में सर झुकाए हुए

हमारे दिल के सभी राज़ फ़ाश करते हैं
झुकी झुकी सी नज़र होंट कपकपाए हुए

हमारे दिल के अँधरों का ग़म न कर हम-दम
हमारे दम से ये रास्ते हैं जगमगाए हुए

शुमार-ए-रोज़-ओ-शब-ओ-माह किस ने रक्खा है
हज़ारों साल हुए उन को दिल में आए हुए

गुज़रते रहते हैं नज़रों से सारी शब ‘मुमताज’
हज़ारों क़ाफ़िले यादों के सर झुकाए हुए


xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

Jimaanaa gujraa hai toofaan-e-gm uThaae hue
gjl ke parde men roodaad-e-dil sunaae hue
 
hamiin the jin su gunaah-e-vafaa huaa sarajd
khaDe hain daar ke saae men sar jhukaae hue
 
hamaare dil ke sabhii raaj faash karate hain
jhukii jhukii sii najr honT kapakapaae hue
 
hamaare dil ke andharon kaa gm n kar ham-dam
hamaare dam se ye raaste hain jagamagaae hue
 
shumaar-e-roj-o-shab-o-maah kis ne rakkhaa hai
hajaaron saal hue un ko dil men aae hue
 
gujrate rahate hain najron se saarii shab ‘mumataaj’

 

hajaaron kaafile yaadon ke sar jhukaae hue

Want More Like This?

Get Hindi and Punjabi Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes directly in your MailBox

Ghazals Latest!

Most Loved!

Latest Posts!