Ye Hum Par Lutf Kaisa ye Karam Kya | Ghazal | ये हम पर लुत्फ़ कैसा ये करम क्या

ये हम पर लुत्फ़ कैसा ये करम क्या
बदल डाले हैं अंदाज़-ए-सितम क्या


ज़माना हेच है अपनी नज़र में
ज़माने की ख़ुशी क्या और ग़म क्या


जब उस महफ़िल को हम कहते हैं अपना
फिर उस महफ़िल में फ़िक्र-ए-बेश-ओ-कम क्या


नज़र आती है दुनिया ख़ूब-सूरत
मेरे साग़र के आगे जाम ओ जम क्या


जबीं है बे-नियाज़-ए-कुफ़्र-ओ-ईमाँ
दर-ए-बुत-ख़ाना क्या सेहन-ए-हरम क्या


तेरी चश्म-ए-करम हो जिस की जानिब
उसे फिर इम्तियाज़-ए-बेश-ओ-कम क्या


मेरे माह-ए-मुनव्वर तेरे आगे
चराग़-ए-दैर क्या शम्मा-ए-हरम क्या


निगाह-ए-नाज़ के दो शोबदे हैं
‘अज़ीज़’ अपना वजूद अपना अदम क्या

Ye hum Par Litf Kaisa – Ghazal by Zafar Iqbal – English Font

ye ham par lutf kaisā ye karam kyā 
badal Daale haiñ andāz-e-sitam kyā 

zamāna hech hai apnī nazar meñ 
zamāne kī ḳhushī kyā aur ġham kyā 

jab us mahfil ko ham kahte haiñ apnā 
phir us mahfil meñ fikr-e-besh-o-kam kyā 

nazar aatī hai duniyā ḳhūb-sūrat 
mire sāġhar ke aage jām-o-jam kyā 

jabīñ hai be-niyāz-e-kufr-o-īmāñ 
dar-e-but-ḳhāna kyā sehn-e-haram kyā 

tirī chashm-e-karam ho jis kī jānib 
use phir imtiyāz-e-besh-o-kam kyā 

mire māh-e-munavvar tere aage 
charāġh-e-dair kyā sham-e-haram kyā 

nigāh-e-nāz ke do shobade haiñ 

‘azīz’ apnā vajūd apnā adam kyā 

Want More Like This?

Get Hindi and Punjabi Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes directly in your MailBox

Latest Lyrics

You would love this!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Get Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes