Tu Zinda Hai | Shailendra | तू जिंदा है | शैलेन्द्र

Tu Zinda Hai | Shailendra | तू जिंदा है | शैलेन्द्र

तू ज़िन्दा है तो ज़िन्दगी की जीत में यकीन कर,
अगर कहीं है तो स्वर्ग तो उतार ला ज़मीन पर!

सुबह औ’ शाम के रंगे हुए गगन को चूमकर,
तू सुन ज़मीन गा रही है कब से झूम-झूमकर,
तू आ मेरा सिंगार कर, तू आ मुझे हसीन कर!
अगर कहीं है तो स्वर्ग तो उतार ला ज़मीन पर!…. तू ज़िन्दा है

ये ग़म के और चार दिन, सितम के और चार दिन,
ये दिन भी जाएंगे गुज़र, गुज़र गए हज़ार दिन,
कभी तो होगी इस चमन पर भी बहार की नज़र!
अगर कहीं है तो स्वर्ग तो उतार ला ज़मीन पर!…. तू ज़िन्दा है

हमारे कारवां का मंज़िलों को इन्तज़ार है,
यह आंधियों, ये बिजलियों की, पीठ पर सवार है,
जिधर पड़ेंगे ये क़दम बनेगी एक नई डगर
अगर कहीं है तो स्वर्ग तो उतार ला ज़मीन पर!…. तू ज़िन्दा है

हज़ार भेष धर के आई मौत तेरे द्वार पर
मगर तुझे न छल सकी चली गई वो हार कर
नई सुबह के संग सदा तुझे मिली नई उमर
अगर कहीं है तो स्वर्ग तो उतार ला ज़मीन पर!…. तू ज़िन्दा है

ज़मीं के पेट में पली अगन, पले हैं ज़लज़ले,
टिके न टिक सकेंगे भूख रोग के स्वराज ये,
मुसीबतों के सर कुचल, बढ़ेंगे एक साथ हम,
अगर कहीं है तो स्वर्ग तो उतार ला ज़मीन पर!…. तू ज़िन्दा है

बुरी है आग पेट की, बुरे हैं दिल के दाग़ ये,
न दब सकेंगे, एक दिन बनेंगे इन्क़लाब ये,
गिरेंगे जुल्म के महल, बनेंगे फिर नवीन घर!
अगर कहीं है तो स्वर्ग तो उतार ला ज़मीन पर!…. तू ज़िन्दा है

Tu Zinda Hai – English Font

too jindaa hai to jindagii kii jiit men yakiin kar,
agar kahiin hai to svarg to utaar laa jmiin par!

subah au’ shaam ke range hue gagan ko choomakar,
too sun jmiin gaa rahii hai kab se jhoom-jhoomakar,
too aa meraa singaar kar, too aa mujhe hasiin kar!
agar kahiin hai to svarg to utaar laa jmiin par!…. too jindaa hai

ye gm ke aur chaar din, sitam ke aur chaar din,
ye din bhii jaaenge gujr, gujr gae hajaar din,
kabhii to hogii is chaman par bhii bahaar kii najr!
agar kahiin hai to svarg to utaar laa jmiin par!…. too jindaa hai

hamaare kaaravaan kaa manjilon ko intajaar hai,
yah aandhiyon, ye bijaliyon kii, piiTh par savaar hai,
jidhar paDenge ye kdam banegii ek naii Dagar
agar kahiin hai to svarg to utaar laa jmiin par!…. too jindaa hai

hajaar bheS dhar ke aaii maut tere dvaar par
magar tujhe n chhal sakii chalii gaii vo haar kar
naii subah ke sang sadaa tujhe milii naii umar
agar kahiin hai to svarg to utaar laa jmiin par!…. too jindaa hai

jmiin ke peT men palii agan, pale hain jlajle,
Tike n Tik sakenge bhookh rog ke svaraaj ye,
musiibaton ke sar kuchal, baDhenge ek saath ham,
agar kahiin hai to svarg to utaar laa jmiin par!…. too jindaa hai

burii hai aag peT kii, bure hain dil ke daag ye,
n dab sakenge, ek din banenge inklaab ye,
girenge julm ke mahal, banenge fir naviin ghar!
agar kahiin hai to svarg to utaar laa jmiin par!…. too jindaa hai

Want More Like This?

Get Hindi and Punjabi Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes directly in your MailBox

Latest Lyrics

You would love this!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Get Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes