Palon Pe Kuch Charag Farozan Hue – Mumtaz Mirza

पलों पे कुछ चराग़ फ़रोजाँ हुए तो हैं
इस ज़िंदगी के मरहले आसाँ हुए तो हैं

मेरी जबीं ने जिन को नवाज़ा था कल तलक
वो ज़र्रे आज मेहर-ए-दरख़्शाँ हुए तो हैं

नादिम भी होंगे अपनी जफ़ाओं पे एक दिन
वो कम-निगाहियों पे पशेमाँ हुए तो हैं

शम्मा-ए-वफ़ा जलाते हैं ज़ुल्मत-कदों में जो
वो लोग इस जहाँ में परेशाँ हुए तो हैं

किस मौज-ए-ख़ूँ से गुज़रे हैं ‘मुमताज’ क्या कहें
कहने का आज हम भी ग़ज़ल-ख़्वां हुए तो हैं


xxxxxxxxxxxx

palon pe kuchh charaag frojaan hue to hain
is jindagii ke marahale aasaan hue to hain
 
merii jabiin ne jin ko navaajaa thaa kal talak
vo jrre aaj mehar-e-darakhshaan hue to hain
 
naadim bhii honge apanii jafaaon pe ek din
vo kam-nigaahiyon pe pashemaan hue to hain
 
shammaa-e-vafaa jalaate hain julmat-kadon men jo
vo log is jahaan men pareshaan hue to hain
 
kis mauj-e-khoon se gujre hain ‘mumataaj’ kyaa kahen

 

kahane kaa aaj ham bhii gjl-khvaan hue to hain

Want More Like This?

Get Hindi and Punjabi Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes directly in your MailBox

Ghazals Latest!

Most Loved!

Latest Posts!