Jab Varsha Shuru Hoti Hai | Kedarnath Singh | जब वर्षा शुरु होती है

Jab Varsha Shuru Hoti Hai – Poem by Kedarnath Singh

Jab Varsha Shuru Hoti Hai | Kedarnath Singh | जब वर्षा शुरु होती है

जब वर्षा शुरु होती है
कबूतर उड़ना बन्द कर देते हैं
गली कुछ दूर तक भागती हुई जाती है
और फिर लौट आती है

मवेशी भूल जाते हैं चरने की दिशा
और सिर्फ रक्षा करते हैं उस धीमी गुनगुनाहट की
जो पत्तियों से गिरती है
सिप् सिप् सिप् सिप्

जब वर्षा शुरु होती है
एक बहुत पुरानी सी खनिज गंध
सार्वजनिक भवनों से निकलती है
और सारे शहर में छा जाती है

जब वर्षा शुरु होती है
तब कहीं कुछ नहीं होता
सिवा वर्षा के
आदमी और पेड़
जहाँ पर खड़े थे वहीं खड़े रहते हैं
सिर्फ पृथ्वी घूम जाती है उस आशय की ओर
जिधर पानी के गिरने की क्रिया का रुख होता है।

Jab Varsha Shuru hoti Hai – Poem By Kedarnath Singh

jab varSaa shuru hotii hai
kabootar uDnaa band kar dete hain
galii kuchh door tak bhaagatii huii jaatii hai
aur fir lauT aatii hai

maveshii bhool jaate hain charane kii dishaa
aur sirf rakSaa karate hain us dhiimii gunagunaahaT kii
jo pattiyon se giratii hai
sip sip sip sip

jab varSaa shuru hotii hai
ek bahut puraanii sii khanij gandh
saarvajanik bhavanon se nikalatii hai
aur saare shahar men chhaa jaatii hai

jab varSaa shuru hotii hai
tab kahiin kuchh nahiin hotaa
sivaa varSaa ke
aadamii aur peD
jahaan par khaDe the vahiin khaDe rahate hain
sirf pRithvii ghoom jaatii hai us aashay kii or
jidhar paanii ke girane kii kriyaa kaa rukh hotaa hai.

Want More Like This?

Get Hindi and Punjabi Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes directly in your MailBox

Latest Lyrics

You would love this!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Get Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes