Hai Andheri Raat Par Diya Jalana Kab Mana Hai | Harivansh Rai Bachchan | है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है

The very famous and inspiring poem from the legendary poet Harivansh Rai Bachchan. 

कल्पना के हाथ से कमनीय जो मंदिर बना था
भावना के हाथ ने जिसमें वितानों को तना था।

स्वप्न ने अपने करों से था जिसे रुचि से सँवारा
स्वर्ग के दुष्प्राप्य रंगों से, रसों से जो सना था
ढह गया वह तो जुटाकर ईंट, पत्थर, कंकड़ों को
एक अपनी शांति की कुटिया बनाना कब मना है
है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है।

बादलों के अश्रु से धोया गया नभ-नील नीलम
का बनाया था गया मधुपात्र मनमोहक, मनोरम
प्रथम ऊषा की किरण की लालिमा-सी लाल मदिरा
थी उसी में चमचमाती नव घनों में चंचला सम
वह अगर टूटा मिलाकर हाथ की दोनों हथेली
एक निर्मल स्रोत से तृष्णा बुझाना कब मना है
है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है।

क्या घड़ी थी, एक भी चिंता नहीं थी पास आई
कालिमा तो दूर, छाया भी पलक पर थी न छाई
आँख से मस्ती झपकती, बात से मस्ती टपकती
थी हँसी ऐसी जिसे सुन बादलों ने शर्म खाई
वह गई तो ले गई उल्लास के आधार, माना
पर अथिरता पर समय की मुसकराना कब मना है
है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है।

हाय, वे उन्माद के झोंके कि जिनमें राग जागा
वैभवों से फेर आँखें गान का वरदान माँगा
एक अंतर से ध्वनित हों दूसरे में जो निरंतर
भर दिया अंबर-अवनि को मत्तता के गीत गा-गा
अंत उनका हो गया तो मन बहलने के लिए ही
ले अधूरी पंक्ति कोई गुनगुनाना कब मना है
है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है।

हाय, वे साथी कि चुंबक लौह-से जो पास आए
पास क्या आए, हृदय के बीच ही गोया समाए
दिन कटे ऐसे कि कोई तार वीणा के मिलाकर
एक मीठा और प्यारा ज़िन्दगी का गीत गाए
वे गए तो सोचकर यह लौटने वाले नहीं वे
खोज मन का मीत कोई लौ लगाना कब मना है
है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है।

क्या हवाएँ थीं कि उजड़ा प्यार का वह आशियाना
कुछ न आया काम तेरा शोर करना, गुल मचाना
नाश की उन शक्तियों के साथ चलता ज़ोर किसका
किंतु ऐ निर्माण के प्रतिनिधि, तुझे होगा बताना
जो बसे हैं वे उजड़ते हैं प्रकृति के जड़ नियम से
पर किसी उजड़े हुए को फिर बसाना कब मना है
है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है।

Hai Andheri Raat Par Diya Jalana Kab Mana Hai

kalpanaa ke haath se kamaniiy jo mandir banaa thaa
bhaavanaa ke haath ne jisamen vitaanon ko tanaa thaa.

svapn ne apane karon se thaa jise ruchi se sanvaaraa
svarg ke duSpraapy rangon se, rason se jo sanaa thaa
Dhah gayaa vah to juTaakar iinT, patthar, kankaDon ko
ek apanii shaanti kii kuTiyaa banaanaa kab manaa hai
hai andherii raat par diivaa jalaanaa kab manaa hai.

baadalon ke ashru se dhoyaa gayaa nabh-niil niilam
kaa banaayaa thaa gayaa madhupaatr manamohak, manoram
pratham ooSaa kii kiraN kii laalimaa-sii laal madiraa
thii usii men chamachamaatii nav ghanon men chanchalaa sam
vah agar TooTaa milaakar haath kii donon hathelii
ek nirmal srot se tRiSNaa bujhaanaa kab manaa hai
hai andherii raat par diivaa jalaanaa kab manaa hai.

kyaa ghaDii thii, ek bhii chintaa nahiin thii paas aaii
kaalimaa to door, chhaayaa bhii palak par thii n chhaaii
aankh se mastii jhapakatii, baat se mastii Tapakatii
thii hansii aisii jise sun baadalon ne sharm khaaii
vah gaii to le gaii ullaas ke aadhaar, maanaa
par athirataa par samay kii musakaraanaa kab manaa hai
hai andherii raat par diivaa jalaanaa kab manaa hai.

haay, ve unmaad ke jhonke ki jinamen raag jaagaa
vaibhavon se fer aankhen gaan kaa varadaan maangaa
ek antar se dhvanit hon doosare men jo nirantar
bhar diyaa anbar-avani ko mattataa ke giit gaa-gaa
ant unakaa ho gayaa to man bahalane ke lie hii
le adhoorii pankti koii gunagunaanaa kab manaa hai
hai andherii raat par diivaa jalaanaa kab manaa hai.

haay, ve saathii ki chunbak lauh-se jo paas aae
paas kyaa aae, hRiday ke biich hii goyaa samaae
din kaTe aise ki koii taar viiNaa ke milaakar
ek miiThaa aur pyaaraa jindagii kaa giit gaae
ve gae to sochakar yah lauTane vaale nahiin ve
khoj man kaa miit koii lau lagaanaa kab manaa hai
hai andherii raat par diivaa jalaanaa kab manaa hai.

kyaa havaaen thiin ki ujaDaa pyaar kaa vah aashiyaanaa
kuchh n aayaa kaam teraa shor karanaa, gul machaanaa
naash kii un shaktiyon ke saath chalataa jor kisakaa
kintu ai nirmaaN ke pratinidhi, tujhe hogaa bataanaa
jo base hain ve ujaDte hain prakRiti ke jaD niyam se
par kisii ujaDe hue ko fir basaanaa kab manaa hai
hai andherii raat par diivaa jalaanaa kab manaa hai.

Want More Like This?

Get Hindi and Punjabi Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes directly in your MailBox

Latest Lyrics

You would love this!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Get Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes