Tumse Alag Hokar – Sarveshwar Dayal Saxena | तुमसे अलग होकर – सर्वेश्वर दयाल सक्सेना | Hindi Poetry

Tumse Alag Hokar  - Sarveshwar Dayal Saxena | तुमसे अलग होकर - सर्वेश्वर दयाल सक्सेना  | Hindi Poetry

तुमसे अलग होकर लगता है
अचानक मेरे पंख छोटे हो गए हैं,
और मैं नीचे एक सीमाहीन सागर में
गिरता जा रहा हूँ।
अब कहीं कोई यात्रा नहीं है,
न अर्थमय, न अर्थहीन;
गिरने और उठने के बीच कोई अंतर नहीं।

तुमसे अलग होकर
हर चीज़ में कुछ खोजने का बोध
हर चीज़ में कुछ पाने की
अभिलाषा जाती रही
सारा अस्तित्व रेल की पटरी-सा बिछा है
हर क्षण धड़धड़ाता हुआ निकल जाता है।

तुमसे अलग होकर
घास की पत्तियाँ तक इतनी बड़ी लगती हैं
कि मेरा सिर उनकी जड़ों से
टकरा जाता है,
नदियाँ सूत की डोरियाँ हैं
पैर उलझ जाते हैं,
आकाश उलट गया है
चाँद-तारे नहीं दिखाई देते,
मैं धरती पर नहीं, कहीं उसके भीतर
उसका सारा बोझ सिर पर लिए रेंगता हूँ।

तुमसे अलग होकर लगता है
सिवा आकारों के कहीं कुछ नहीं है,
हर चीज़ टकराती है
और बिना चोट किये चली जाती है।

तुमसे अलग होकर लगता है
मैं इतनी तेज़ी से घूम रहा हूँ
कि हर चीज़ का आकार
और रंग खो गया है,
हर चीज़ के लिए
मैं भी अपना आकार और रंग खो चुका हूँ,
धब्बों के एक दायरे में
एक धब्बे-सा हूँ,
निरंतर हूँ
और रहूँगा
प्रतीक्षा के लिए
मृत्यु भी नहीं है।

——x——

tumase alag hokar lagataa hai
achaanak mere pankh chhoTe ho gae hain,
aur main niiche ek siimaahiin saagar men
girataa jaa rahaa hoon.
ab kahiin koii yaatraa nahiin hai,
n arthamay, n arthahiin;
girane aur uThane ke biich koii antar nahiin.

tumase alag hokar
har chiij men kuchh khojane kaa bodh
har chiij men kuchh paane kii
abhilaaSaa jaatii rahii
saaraa astitv rel kii paTarii-saa bichhaa hai
har kSaN dhaDdhaDaataa huaa nikal jaataa hai.

tumase alag hokar
ghaas kii pattiyaan tak itanii baDii lagatii hain
ki meraa sir unakii jaDon se
Takaraa jaataa hai,
nadiyaan soot kii Doriyaan hain
pair ulajh jaate hain,
aakaash ulaT gayaa hai
chaand-taare nahiin dikhaaii dete,
main dharatii par nahiin, kahiin usake bhiitar
usakaa saaraa bojh sir par lie rengataa hoon.

tumase alag hokar lagataa hai
sivaa aakaaron ke kahiin kuchh nahiin hai,
har chiij Takaraatii hai
aur binaa choT kiye chalii jaatii hai.

tumase alag hokar lagataa hai
main itanii tejii se ghoom rahaa hoon
ki har chiij kaa aakaar
aur rang kho gayaa hai,
har chiij ke lie
main bhii apanaa aakaar aur rang kho chukaa hoon,
dhabbon ke ek daayare men
ek dhabbe-saa hoon,
nirantar hoon
aur rahoongaa
pratiikSaa ke lie
mRityu bhii nahiin hai.

Want More Like This?

Get Hindi and Punjabi Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes directly in your MailBox

Latest Lyrics

You would love this!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Get Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes