Teri Nazar Ke Isharon Ko – Kaisar Nizami | तेरी नज़र के इशारों को नींद आई है – क़ैसर’ निज़ामी

Teri Nazar Ke Isharon Ko - Kaisar Nizami | तेरी नज़र के इशारों को नींद आई है - क़ैसर' निज़ामी

तेरी नज़र के इशारों को नींद आई है
हयात-बख़्श सहारों को नींद आई है

तेरे बग़ैर तेरे इंतिज़ार से थक कर
शब-ए-फिराक के मारों को नींद आई है

सहर करीब है अरमाँ उदास दिल गम-गीं
फलक पे चाँद सितारों को नींद आई है

तेरे जमाल से ताबरी थे जो उल्फत में
अब उन हसीन नज़ारों को नींद आई है

हर एक मौज है साकित यम-ए-मोहब्बत की
मेरे बग़ैर किनारों को नींद आई है

चमन में ज़हमत-ए-गुल्शत आप फरमाएँ
ये सुन रहा हूँ बहारों को नींद आई है

कहो ये साकी-ए-सहबा-नवाज़ से ‘कैसर’
फिर आज बादा-गुसारों को नींद आई है

——-x——-

terii najr ke ishaaron ko niind aaii hai
hayaat-bakhsh sahaaron ko niind aaii hai

tere bagair tere intijaar se thak kar
shab-e-firaak ke maaron ko niind aaii hai

sahar kariib hai aramaan udaas dil gam-giin
falak pe chaand sitaaron ko niind aaii hai

tere jamaal se taabarii the jo ulfat men
ab un hasiin najaaron ko niind aaii hai

har ek mauj hai saakit yam-e-mohabbat kii
mere bagair kinaaron ko niind aaii hai

chaman men jhamat-e-gulshat aap faramaaen
ye sun rahaa hoon bahaaron ko niind aaii hai

kaho ye saakii-e-sahabaa-navaaj se ‘kaisar’
fir aaj baadaa-gusaaron ko niind aaii hai

Want More Like This?

Get Hindi and Punjabi Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes directly in your MailBox

Latest Lyrics

You would love this!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Get Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes