Sautela Sheher Song Lyrics | Euphoria @ The Clinic | Palash Sen

Song: Sautela Shehar
Composed  by Palash Sen
Written by Palash Sen & Deekshant Sahrawat
Acoustic bass Guitar– DJ Bhaduri
Guitars – Aditya Shankar Benia
Cajon – Prashant Trivedi
Congas —Rakesh Negi
Drums – Vishal Mehta
Piano — Vishal Dixit

Sautela Shehar Song Lyrics 

वही सुबह वही शाम है,
वही चेहरे वही नाम है,
वही धड़कन वही रोशनी भी,
अल्लाह यहीं यहीं राम है,

फिर भी क्यूं अजनबी,
फिर मैं क्यूं मैं नही,
फिर है क्यूं ये मकान घर नही,

सौतेला सा ये शहर,
सौतेला है ये मगर,
फिर भी अपना है ये जहां,

सौ जगह जाए डगर,
सौ वजह जाने की पर,
फिर भी जीना अब है यहां,

सौतेला शहर ह्म ह्म,
सौतेला शहर ह्म ह्म,
सौतेला शहर ह्म ह्म,

जागे जागे नैन थका रे,
भागे भागे पांव थके हैं,
मुस्कुराए गुनगुनाए,
करता जाए एहसान सवेरे,

ना है छतरी ना है छत रे,
और ये सपनों की ताक़त रे,
ये समंदर ओ री अंबर रैन बसेरे,

फिर क्यूं तू अजनबी,
फिर क्यूं तू तू नही,
फिर है क्यूं ये अपना घर नही,

सौतेला सा ये शहर,
सौतेला है ये मगर,
फिर भी अपना है ये जहां,

सौ जगह जाए डगर,
सौ वजह जाने की पर,
फिर भी जीना अब है यहां,

सौतेला शहर ह्म ह्म,
सौतेला शहर ह्म ह्म,
सौतेला शहर ह्म ह्म.

सपनों का शहर है ये मेरा,
तू संग है तो घर है ये मेरा,
जैसा भी है पर है ये मेरा,

पीछे कहीं छूटा है जो,
गांव मेरा रूठा है जो,
मेरी ज़मीन मेरी हवा कहां मेरा आस्मां,

अब मैं हूं अजनबी,
अब मैं हूं मैं नही,
है ये मेरा आशियां पर घर नही..वो..,

फिर भी अपना है ये जहां,
सौ जगह जाए डगर, जाना है पर,
फिर भी जीना अब है यहां,

सौतेला शहर ह्म ह्म,
सौतेला शहर ह्म ह्म,
सौतेला शहर ह्म ह्म

Sautela Shehar Song Lyrics – English Font

wahi subah wahi sham hai
wahi chehre wahi naam hai
wahi dhadkan wahi roshni bhi
allah yahin yahin raam hai
phir bhi kyun ajnabi
phir main kyun main nahi
phir hai kyun ye makan ghar nahi

sautela sa ye sheher
sautela hai ye magar
phir bhi apna hai ye jahaan
sau jagah jaye dagar
sau wajah jaane ki par
phir bhi jeena ab hai yahaan
sautela sheher, sautela sheher
sautela sheher

jaage jaage nain thaka re
bhaage bhaage pavn thake hain
muskuraye gungunaye
karta jaye ehsaan savere
na hai chhatri na hai chhat re
aur ye sapno ki takat re
ye samandar o ri ambar ren basere
phiy kyun tu ajnabi, phir kyun tu tu nahi
phir hai kyun ye aafiya ghar nahi

sautela sa ye sheher
sautela hai ye magar
phir bhi apna hai ye jahaan
sau jagah jaye dagar
sau wajah jaane ki par
phir bhi jeena ab hai yahaan
sautela sheher, sautela sheher
sautela sheher

sapno ka shehar hai ye mera
tu sang hai to ghar hai ye mera
jaisa bhi hai par hai ye mera
pichhe kahin chhuta hai jo
gaon mera rootha hai jo
meri zameen meri hawa kaha mera aasma
ab main hu ajnabi, ab main hu main nahi
hai ye mera aashiyan par ghar nahi woh

phir bhi apna hai ye jahaan
sau jagah jaye dagar, jaana hai par
phir bhi jeena ab hai yahaan
sautela sheher, sautela sheher
sautela sheher, sautela sheher
sautela sheher, sautela sheher

Want More Like This?

Get Hindi and Punjabi Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes directly in your MailBox

Latest Album Songs!

Most Loved!

Latest Posts!