Main Bahut Dino Se – Muktibodh

मैं बहुत दिनों से बहुत दिनों से
बहुत-बहुत सी बातें तुमसे चाह रहा था कहना
और कि साथ यों साथ-साथ
फिर बहना बहना बहना
मेघों की आवाज़ों से
कुहरे की भाषाओं से
रंगों के उद्भासों से ज्यों नभ का कोना-कोना
है बोल रहा धरती से
जी खोल रहा धरती से
त्यों चाह रहा कहना
उपमा संकेतों से
रूपक से, मौन प्रतीकों से

मैं बहुत दिनों से बहुत-बहुत-सी बातें
तुमसे चाह रहा था कहना!
जैसे मैदानों को आसमान,
कुहरे की मेघों की भाषा त्याग
बिचारा आसमान कुछ
रूप बदलकर रंग बदलकर कहे।


——-x——

main bahut dinon se bahut dinon se
bahut-bahut sii baaten tumase chaah rahaa thaa kahanaa
aur ki saath yon saath-saath
fir bahanaa bahanaa bahanaa
meghon kii aavaajon se
kuhare kii bhaaSaaon se
rangon ke udbhaason se jyon nabh kaa konaa-konaa
hai bol rahaa dharatii se
jii khol rahaa dharatii se
tyon chaah rahaa kahanaa
upamaa sanketon se
roopak se, maun pratiikon se
 
main bahut dinon se bahut-bahut-sii baaten
tumase chaah rahaa thaa kahanaa!
jaise maidaanon ko aasamaan,
kuhare kii meghon kii bhaaSaa tyaag
bichaaraa aasamaan kuchh

 

roop badalakar rang badalakar kahe.

Want More Like This?

Get Hindi and Punjabi Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes directly in your MailBox

Poetry Latest!

Most Loved!

Latest Posts!