Itne Nazdeek Se Aaine – Aziz Warsi

Itne Nazdeek Se Aaine - Aziz Warsi | इतने नज़दीक से आईने को देखा न करो - अज़ीज़ वारसी

इतने नज़दीक से आईने को देखा न करो
रुख़-ए-ज़ेबा की लताफ़त को बढाया न करो

दर्द ओ आज़ार का तुम मेरे मुदावा न करो
रहने दो अपनी मसीहाई का दावा न करो

हुस्न के सामने इज़हार-ए-तमन्ना न करो
इश्क़ इक राज़ है इस राज़ को इफ़्शा न करो

अपनी महफ़िल में मुझे ग़ौर से देखा न करो
मैं तमाशा हूँ मगर तुम तो तमाशा न करो

सारी दुनिया तुम्हें कह देगी तुम्हीं हो क़ातिल
देखो मुझ को ग़लत अंदाज़ से देखा न करो

कैसे मुमकिन है के हम दोनों बिछड़ जाएँगे
इतनी गहराई से हर बात को सोचा न करो

तुम पे इल्ज़ाम न आ जाए सफ़र में कोई
रास्ता कितना ही दुश्वार हो ठहरा न करो

वो कोई शाख़ हो मिज़राब हो या दिल हो ‘अज़ीज़’
टूटने वाली किसी शै का भरोसा न करो

——–x——-

itane najdiik se aaiine ko dekhaa n karo
rukh-e-jebaa kii lataaft ko baDhaayaa n karo

dard o aajaar kaa tum mere mudaavaa n karo
rahane do apanii masiihaaii kaa daavaa n karo

husn ke saamane ijhaar-e-tamannaa n karo
ishk ik raaj hai is raaj ko ifshaa n karo

apanii mahafil men mujhe gaur se dekhaa n karo
main tamaashaa hoon magar tum to tamaashaa n karo

saarii duniyaa tumhen kah degii tumhiin ho kaatil
dekho mujh ko glat andaaj se dekhaa n karo

kaise mumakin hai ke ham donon bichhaD jaaenge
itanii gaharaaii se har baat ko sochaa n karo

tum pe iljaam n aa jaae safr men koii
raastaa kitanaa hii dushvaar ho Thaharaa n karo

vo koii shaakh ho mijraab ho yaa dil ho ‘ajiij’
TooTane vaalii kisii shai kaa bharosaa n karo

Want More Like This?

Get Hindi and Punjabi Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes directly in your MailBox

Poetry Latest!

Most Loved!

Latest Posts!