Eid Ki Achkan – Syed Mohammad Jafri | ईद की अचकन – सय्यद मोहम्मद जाफरी | Eid Special

Eid Ki Achkan - Syed Mohammad Jafri | ईद की अचकन - सय्यद मोहम्मद जाफरी | Eid Special

सजती थी कभी तन पे जो थी ईद की अचकन
सजते थे कभी हम, तो कभी ईद की अचकन

सौ सौ तरह परवान चढ़ी ईद की अचकन
अब इतने घटे हम कि बढ़ी ईद की अचकन

अचकन नहीं इस वक़्त अबा और क़बा है
या कोई दो-शाला है जो खूँटी पे टंगा है

इस ईद की अचकन ने मचाई थी बड़ी धूम
जब इस को पहनते तो चमक उठता था मक़्सूम

जाते जो कहीं दूर से हो जाता था मालूम
हम इस में नज़र आते थे जैसे कि हों मासूम

इस ईद की अचकन में बड़े ल’अल जड़े थे
ईदी भी हमें देते थे जौ हम से बड़े थे

उस अहद में ये ईद की अचकन थी बनाई
जिस अहद में हम खाते थे बाबा की कमाई

देते न थे अफ़्लास की उस वक़्त दुहाई
मिल जाती थी जिस शय की ज़रूरत नज़र आई

हर बात पे जब रूठ के हँसने का मज़ा था
तब ईद की अचकन के पहनने का मज़ा था

इस ईद की अचकन को पहन लेते थे जब हम
आती थी नज़र हेच हमें सल्तनत-ए-जम

जिस ने मुझे देखा वो यही कहता था हर दम
”जब तक कि न देखा था क़द-ए-यार का आलम”

”मैं मो’तक़िद-ए-फ़ित्ना-ए-महशर न हुआ था”
मैं भी ग़म-ए-दुनिया का शनावर न हुआ था

इस ईद की अचकन ने गले उन से मिलाया
घबराता था पास आने से जिन लोगों का साया

किस किस के न जाने बुत-ए-पिंदार को ढाया
जब ईद का दिन आया तो फिर दिल को सजाया

अचकन नहीं माज़ी का सुनहरा सा वरक़ है
हम बदले पर अचकन नहीं बदली ये क़लक़ है

ऐ ‘जाफ़री’ अचकन को न लटका मिरे आगे
”जुज़ वहम नहीं हसती-ए-अशिया मिरे आगे”

वो धूप ढली रह गया साया मिरे आगे
अब क़िस्सा-ए-माज़ी को न दोहरा मिरे आगे

काम आई ये अचकन न ग़रीब-उल-वतनी में
”हर-चंद सुबुक-दस्त हुए बुत-शिकनी में”

——————–

sajtī thī kabhī tan pe jo thī iid kī achkan
sajte the kabhī ham, to kabhī iid kī achkan

sau sau tarah parvān chaḌhī iid kī achkan
ab itne ghaTe ham ki baḌhī iid kī achkan

achkan nahīñ is vaqt abā aur qabā hai
yā koī do-shāla hai jo khūñTī pe Tañgā hai

is iid kī achkan ne machā.ī thī baḌī dhuum
jab is ko pahante to chamak uThtā thā maqsūm

jaate jo kahīñ duur se ho jaatā thā ma.alūm
ham is meñ nazar aate the jaise ki hoñ ma.asūm

is iid kī achkan meñ baḌe la.al jaḌe the
eidī bhī hameñ dete the jau ham se baḌe the

us ahd meñ ye iid kī achkan thī banā.ī
jis ahd meñ ham khāte the baabā kī kamā.ī

dete na the aflās kī us vaqt duhā.ī
mil jaatī thī jis shai kī zarūrat nazar aa.ī

har baat pe jab ruuTh ke hañsne kā maza thā
tab iid kī achkan ke pahanñe kā maza thā

is iid kī achkan ko pahan lete the jab ham
aatī thī nazar hech hameñ saltanat-e-jam

jis ne mujhe dekhā vo yahī kahtā thā har dam
”jab tak ki na dekhā thā qad-e-yār kā ālam”

”maiñ mo’taqid-e-fitna-e-mahshar na huā thā”
maiñ bhī ġham-e-duniyā kā shanāvar na huā thā

is iid kī achkan ne gale un se milāyā
ghabrātā thā paas aane se jin logoñ kā saaya

kis kis ke na jaane but-e-pindār ko Dhāyā
jab iid kā din aayā to phir dil ko sajāyā

achkan nahīñ maazī kā sunahrā sā varaq hai
ham badle par achkan nahīñ badlī ye qalaq hai

ai ‘ja.afarī’ achkan ko na laTkā mire aage
”juz vahm nahīñ hastī-e-ashiyā mire āge”

vo dhuup Dhalī rah gayā saayā mire aage
ab qissa-e-māzī ko na dohrā mire aage

kaam aa.ī ye achkan na ġharīb-ul-vatanī meñ
”har-chand subuk-dast hue but-shikanī meñ”

Eid Special Playlist by Mahfil : 

Eid Ki Achkan – Syed Mohammad Jafri | ईद की अचकन – सय्यद मोहम्मद जाफरी 
Paigham-e-Eid – Hafeez Banarsi | पैग़ाम ईद – हफ़ीज़ बनारसी 
Eid Milan – Nazeer Banarasi | ईद मिलान – नजीर बनारसी 
Eid Ghazal By Nazeer Akbarabadi | ईद के मौके पर नजीक अकबराबादी की नज्में – २
Eid Ghazal By Nazeer Akbarabaadi | ईद के मौके पर नजीक अकबराबादी की नज्में – १
Eid Special Shayari | ईद की शायरी
Eid Mubarak – Kedarnath Agarwal
Eid Ul Fitr-Nazeer Akbaraabadi | ईद उल फ़ितर | नज़ीर अकबराबादी
Eid Ke Din Gale Mil Le Raja Song Lyrics – Teesri Aankh |
Eid Mubarak Song Lyrics – Daddy
Mera Sona Sajan Ghar Aaya Song Lyrics – Dil Pardesi Ho Gaya | Eid Special
Chand Nazar Aa Gaya Song Lyrics | Eid Special Song 
Mubarak Eid Mubarak Song Lyrics| Eid Special Song 
Kun Faya Kun Song Lyrics – Rockstar 
Arziyan Song Lyrics – Delhi 6

Want More Like This?

Get Hindi and Punjabi Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes directly in your MailBox

Poetry Latest!

Most Loved!

Latest Posts!