Patriotic Songs | Indian Independence Day Special 7 | आज़ादी के नगमें – 7

We bring you more patriotic songs that you can listen on the ocassion of Independence Day. 

Songs in this section: Mere Desh ki Dharti, Apni Azadi Ko Hum, Ye Desh hai Veer Jawanon ka and Ae Watan Tere Liye

Song: Mere Desh Ki Dharti 
mere desh ki dharti lyrics upkaar

Lyricist : Gulshan Bawara, 
Singer : Mahendra Kapoor, 
Music Director : Kalyanji Anandji, 
Movie : Upkar (1967)

मेरे देश की धरती, सोना उगले, उगले हीरे मोती 
बैलों के गले में जब घुँगरू, जीवन का राग सुनाते हैं 
गम कोस दूर हो जाता है, खुशियों के कंवल मुसकाते हैं 
सुन के रहट की आवाज़े यूँ लगे कही शहनाई बजे
आते ही मस्त बहारों के दुल्हन की तरह हर खेत सजे
जब चलते हैं इस धरती पे हल, ममता अंगडाईयाँ लेती है
क्यो ना पूजे इस माटी को जो जीवन का सुख देती है
इस धरती पे जिस ने जनम लिया, उसने ही पाया प्यार तेरा
यहाँ अपना पराया कोई नहीं, है सब पे माँ उपकार तेरा
ये बाग है गौतम नानक का, खिलते हैं अमन के फूल यहाँ
गाँधी, सुभाष, टैगोर, तिलक ऐसे हैं चमन के फूल यहाँ
रंग हरा हरीसिंग नलवे से, रंग लाल है लाल बहादूर से
रंग बना बसंती भगतसिंग, रंग अमन का वीर जवाहर से
X———–X
Mere desh ki dharati, sona ugale, ugale hire moti 
Bailon ke gale men jab ghungaru, jiwan ka raag sunaate hain 
Gam kos dur ho jaata hai, khushiyon ke knwal musakaate hain 
Sun ke rahat ki awaaje yun lage kahi shahanaai baje
Ate hi mast bahaaron ke dulhan ki tarah har khet saje
Jab chalate hain is dharati pe hal, mamata angadaaiyaan leti hai
Kyo na puje is maati ko jo jiwan ka sukh deti hai
Is dharati pe jis ne janam liya, usane hi paaya pyaar tera
Yahaan apana paraaya koi nahin, hai sab pe maan upakaar tera
Ye baag hai gautam naanak ka, khilate hain aman ke ful yahaan
Gaandhi, subhaash, taigor, tilak aise hain chaman ke ful yahaan
Rng hara harising nalawe se, rng laal hai laal bahaadur se
Rng bana basnti bhagatasing, rng aman ka wir jawaahar se

Song: Apni Azadi ko Hum

Apni azadi ko hum hargiz lyrics leader


Lyricist : Shakeel Badayuni, 
Singer : Mohammad Rafi, 
Music Director : Naushad, 
Movie : Leader (1964)

अपनी आज़ादी को हम हरगीज मिटा सकते नहीं 
सर कटा सकते हैं लेकीन सर झुका सकते नहीं
हमने सदियों में ये आज़ादी की नेमत पाई है
सैकडों कुरबानियां दे कर ये दौलत पाई है
मुस्कुराकर खाई हैं सीनों पे अपने गोलियां
कितने वीरानों जो गुजरे हैं पर जन्नत पाई है
खाक में हम अपनी इज्जत को मिला सकते नहीं
क्या चलेगी जुल्म की एहल-ए-वफा के सामने
आ नहीं सकता कोई शोला हवा के सामने
लाख फौजे ले के आए अम्न का दुश्मन कोई
रुक नहीं सकता हमारी एकता के सामने
हम वो पत्थर हैं जिसे दुश्मन हिला सकता नहीं
वक्त की आवाज के हम साथ चलते जायेंगे
हर कदम पर जिंदगी का रूख बदलते जायेंगे
गर वतन में भी मिलेगा कोई गद्दार-ए-वतन 
अपनी ताकत से हम उस का सर कुचलते जायेंगे
एक धोका खा चुके हैं और खा सकते नहीं
हम वतन के नौजवान हैं, हम से जो टकरायेगा
वो हमारी ठोकरों से खाक में मिल जायेगा
वक्त के तुफान में बह जायेंगे जुल्म-ओ-सितम
आसमां पर ये तिरंगा उम्र भर लहरायेगा
जो सबक बापू ने सिखलाया वो भूला सकते नहीं
X————-X
Apani azaadi ko ham haragij mita sakate nahin 
Sar kata sakate hain lekin sar jhuka sakate nahin
Hamane sadiyon men ye azaadi ki nemat paai hai
Saikadon kurabaaniyaan de kar ye daulat paai hai
Muskuraakar khaai hain sinon pe apane goliyaan
Kitane wiraanon jo gujare hain par jannat paai hai
Khaak men ham apani ijjat ko mila sakate nahin
Kya chalegi julm ki ehal-e-wafa ke saamane
A nahin sakata koi shola hawa ke saamane
Laakh fauje le ke ae amn ka dushman koi
Ruk nahin sakata hamaari ekata ke saamane
Ham wo patthar hain jise dushman hila sakata nahin
Wakt ki awaaj ke ham saath chalate jaayenge
Har kadam par jindagi ka rukh badalate jaayenge
Gar watan men bhi milega koi gaddaar-e-watan 
Apani taakat se ham us ka sar kuchalate jaayenge
Ek dhoka kha chuke hain aur kha sakate nahin
Ham watan ke naujawaan hain, ham se jo takaraayega
Wo hamaari thhokaron se khaak men mil jaayega
Wakt ke tufaan men bah jaayenge julm-o-sitam
Asamaan par ye tirnga umr bhar laharaayega
Jo sabak baapu ne sikhalaaya wo bhula sakate nahin

Song: Ye Desh Hai Veer Jawanon Ka 

ye desh hai veer


Lyricist : Saahir Ludhiyanvi, 
Singer : Mohammad Rafi, 
Music Director : O. P. Nayyar, 
Movie : Naya Daur (1957)
यह देश है वीर जवानों का 
अलबेलों का मस्तानों का
इस देश का यारों क्या कहना
यह देश है दुनिया का गहना
यहां चौडी छाती वीरों की
यहां भोली शक्लें हीरों की
यहां गाते हैं रांझे मस्ती में
मचती हैं धूमें बस्ती में
पेडों पे बहारें खुलों की
राहों में क़तारे फूलों की
यहां हंसता है सावन बालों में
खिलती हैं कलियां गालों में
कहीं दंगल शोख़ जवानों की 
कहीं करतब तीर कमानों के
यहां नित-नित मेले सजते हैं
नित ढोल और ताशें बजते हैं
दिलबर लिए दिलदार हैं हम 
दुश्मन के लिए तलवार हैं हम
मैदां मे अगर हम डट जाएं
मुश्किल है की पीछे हट जाए
X——————X
Yah desh hai wir jawaanon ka 
Alabelon ka mastaanon ka
Is desh ka yaaron kya kahana
Yah desh hai duniya ka gahana
Yahaan chaudi chhaati wiron ki
Yahaan bholi shaklen hiron ki
Yahaan gaate hain raanjhe masti men
Machati hain dhumen basti men
Pedon pe bahaaren khulon ki
Raahon men qataare fulon ki
Yahaan hnsata hai saawan baalon men
Khilati hain kaliyaan gaalon men
Kahin dngal shokh jawaanon ki 
Kahin karatab tir kamaanon ke
Yahaan nit-nit mele sajate hain
Nit dhol aur taashen bajate hain
Dilabar lie diladaar hain ham 
Dushman ke lie talawaar hain ham
Maidaan me agar ham dat jaaen
Mushkil hai ki pichhe hat jaae

Song: Ae Watan Tere Liye

ae watan tere liye lyrics karma


Lyricist : Anand Bakshi, 
Singer : Kavita Krishnamurthy – Mohammad Aziz, 
Music Director : Laxmikant Pyarelal, 
Movie : Karma (1986)
मेरा कर्मा तू, मेरा धर्मा तू 
तेरा सबकुछ मैं, मेरा सबकुछ तू 
हर करम अपना करेंगे ऐ वतन तेरे लिए 
दिल दिया है, जां भी देंगे, ऐ वतन तेरे लिए 
तू मेरा कर्मा, तू मेरा धर्मा, तू मेरा अभिमान है 
ऐ वतन मेहबूब मेरे तुझपे दिल कुर्बान है 
हम जिएंगे और मरेंगे ऐ वतन तेरे लिए 
हिन्दू मुस्लिम सिख इसाई, हमवतन हमनाम है
जो करे इनको जुदा मजहब नहीं इल्ज़ाम है 
हम जिएंगे और मरेंगे ऐ वतन तेरे लिए 
तेरी गलियों में चलाकर नफरतों की गोलियां 
लुटते है कुछ लुटेरे दुल्हनों की डोलियाँ
लूट रहे है आप वो अपन घरों को लूटकर 
खेलते हैं बेख़बर अपने लहू से होलियाँ 
X———–X
Mera karma tu, mera dharma tu 
Tera sabakuchh main, mera sabakuchh tu 
Har karam apana karenge ai watan tere lie 
Dil diya hai, jaan bhi denge, ai watan tere lie 
Tu mera karma, tu mera dharma, tu mera abhimaan hai 
Ai watan mehabub mere tujhape dil kurbaan hai 
Ham jienge aur marenge ai watan tere lie 
Hindu muslim sikh isaai, hamawatan hamanaam hai
Jo kare inako juda majahab nahin ilzaam hai 
Ham jienge aur marenge ai watan tere lie 
Teri galiyon men chalaakar nafaraton ki goliyaan 
Lutate hai kuchh lutere dulhanon ki doliyaan
Lut rahe hai ap wo apan gharon ko lutakar 
Khelate hain bekhabar apane lahu se holiyaan 

Want More Like This?

Get Hindi and Punjabi Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes directly in your MailBox

Latest Posts!

You Might Like These!