Hui Aankh Nam- Saathi (1991)

Hui Aankh Nam Lyrics: Anuradha Paudwal sings the original song Hui Aankh Nam from the film Saathi. Nawab Arzoo wrote the lyrics while Bhushan Dua directed the music for Song Hui Aankh Nam.

फिल्म-साथी (1991)
गाना- हुई आँख नम
संगीतकार- नदीम-श्रवण
गीतकार- समीर
गायिका- अनुराधा
पौडवाल

Hui Aankh Nam Lyrics in Hindi (Saathi)

हुई आँख नम और ये
दिल मुस्कराया
हुई आँख नम और ये
दिल मुस्कराया
तो साथी कोई भूला
याद आया
हाँ आया साथी कोई
भूला याद आया
मोहब्बत का जब भी
कहीं जिक्र आया
मोहब्बत का जब भी
कहीं जिक्र आया
तो साथी कोई भूला
याद आया
हाँ आया, साथी
कोई भूला याद आया

क्या यही प्यार
करने का अंजाम है
दिल लगाने का ये
कैसा ईनाम है
दिल लगाने का ये
कैसा ईनाम है
हँसी जिसको दी है
उसी ने रुलाया
हँसी जिसको दी है
उसी ने रुलाया
तो साथी कोई भूला
याद आया
हाँ आया, साथी
कोई भूला याद आया

इस तरह
रस्मे-उल्फत अदा कीजिए
दिल किसी का न
टूटे दुआ कीजिए
दिल किसी का न
टूटे दुआ कीजिए
कभी रेत पर घर
किसी ने बनाया
कभी रेत पर घर
किसी ने बनाया
तो साथी कोई भूला
याद आया
हाँ आया, साथी
कोई भूला याद आया

रूठ जाते हैं बन
के मुकद्दर यहाँ
छूट जाते हैं
हाथों से सागर यहाँ
छूट जाते हैं
हाथों से सागर यहाँ
कभी सर्द शबनम ने
कोई घर जलाया
कभी सर्द शबनम ने
कोई घर जलाया
तो साथी कोई भूला
याद आया
हाँ आया, साथी
कोई भूला याद आया

हुई आँख नम और ये
दिल मुस्कराया
हुई आँख नम और ये
दिल मुस्कराया
तो साथी कोई भूला
याद आया
हाँ आया साथी कोई
भूला याद आया

तो साथी कोई भूला
याद आया
हाँ आया साथी कोई
भूला याद आया

Hui Aankh Nam Lyrics (English Font)

Hui aankh nam aur ye dil muskuraya
Hui aankh nam aur ye dil muskuraya
To saathi koi bhula yaad aaya
Ha, aaya saathi koi bhula yaad aaya

Mohabbat ka jab bhi kahi jikr aaya
Mohabbat ka jab bhi kahi jikr aaya
To saathi koi bhula yaad aaya
Ha, aaya saathi koi bhula yaad aaya..

Kya yahi pyaar karne ka anjaam hai
Dil lagaane ka ye kaisa inaam hai
Dil lagaane ka ye kaisa inaam hai
Hansi jisko di usine rulaaya
Hansi jisko di usine rulaaya
To saathi koi bhula yaad aaya
Ha, aaya saathi koi bhula yaad aaya..

Is tarah rasme ulfat ada kijiye
Dil kisi ka na toote duwa kijiye
Dil kisi ka na toote duwa kijiye
Kabhi reth par ghar kisi ne bnaya
Kabhi reth par ghar kisi ne bnaya
To saathi koi bhula yaad aaya
Ha, aaya saathi koi bhula yaad aaya..

Rooth jatein hai banke mukkadr yahan
Chhoot jatein hai hantho se sagar yahan
Chhoot jatein hai hantho se sagar yahan
Kabhi sard shabnam ne koi ghar jalaya
Kabhi sard shabnam ne koi ghar jalaya
To saathi koi bhula yaad aaya
Ha, aaya saathi koi bhula yaad aaya

Hui aankh nam aur ye dil muskuraya
Hui aankh nam aur ye dil muskuraya
To saathi koi bhula yaad aaya
Ha, aaya saathi koi bhula yaad aaya
Ha aaya saathi koi bhula yaad aaya
Ha aaya saathi koi bhula yaad aaya.

Want More Like This?

Get Hindi and Punjabi Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes directly in your MailBox

Evergreen Classics!

Most Loved!

Latest Posts!