सुल्तान

फिल्म – सुल्तान
गाना – सुल्तान
संगीतकार – विशाल शेखर
गीतकार – इरशाद कामिल

गायक – सुखविंदर सिंह 

किस्मत जो आवे सामने 

तू मोड़ दे उसका पंजा रे 
चल मोड़ दे उसका पंजा रे..
सात आसमां चीरे 
एब सात समंदर पीरे 
चल सात सुरों में कर दे ये ऐलान 
हिम्मत है तो रोको 
और जुर्रत है तो बांधों 
रे आज हथेली पे रख दी जान 
खून में तेरे मिटटी 
मिटटी में तेरा खून 
खून में तेरे मिटटी 
मिटटी में तेरा खून 
ऊपर अल्लाह नीचे धरती 
बीच में तेरा जूनून 
ऐ सुल्तान 
सीने में तेरे आग, पानी, आँधी है 
मेहनत की डोरी हौंसले से बाँधी है 
है पर्वत भी तू ही 
और तू ही पत्थर है 
जो चाहे तू वो ही बन जाए 
तेरी मर्जी
आँसू और पसीना 
अरे है तो दोनों पानी 
पर मोड़ के रख दे दोनों ही तूफान 
चोट हो जितनी गहरी 
या ठेस जिगर में ठहरी 
तो जज्बा उतना ज़हरी है ये मान 

नूर-ए-सुकून नियत से जूनून 
ये तुझको पता है 
तुझमें छुपा है 
तू उसको ले, उसको ले पहचान 
तेरा इरादा तुझसे भी ज्यादा 
उसको पता है जो लापाता है 
तू इतना ले, इतना ले अब मान 
वो दिल में है तेरे
तू उसकी नज़रों में 
चाहे हद से आगे रे
चाहे जो तूने वो पाने 
चल बंजारे सुल्तान 
सात आसमां चीरे 
एब सात समंदर पीरे 
चल सात सुरों में कर दे ये ऐलान 
हिम्मत है तो रोको 
और जुर्रत है तो बांधों 
रे आज हथेली पे रख दी जान 
खून में तेरे मिटटी 
मिटटी में तेरा खून 
खून में तेरे मिटटी 
मिटटी में तेरा खून 
फिल्म – सुल्तान
गाना – लगे 440 वाल्ट छूने से तुझे
संगीतकार – विशाल शेखर
गीतकार – इरशाद काम

गायक – मिका सिंह  

हाय दिल मेरा जैसे कोइन डिश एंटीना था 

फ्री का भी कोई चैनल चलता ही न था 
जुड़े न थे वायर कहीं, सिग्नल भी न था 
हरयाणा मेरे लिए अर्जेंटीना था 
दिल को मेरे है जाने तूने कैसे दी डायरेक्शन
अब नैनों के टीवी में है बस तेरा ही रेफ्लेक्सन 
कौन जाने कैसा तेरा मेरा है कनेक्सन 
लगे 440 वोल्ट छूने से तेरे
लगे 440 वोल्ट छूने से तेरे 
छूने से तेरे
छूने से तेरे 
छूने से तेरे 

लगे 440 वोल्ट छूने से तेरे
लगे 440 वोल्ट छूने से तेरे 

सपने जो डाले मैंने सर्चिंग पे 

तेरे पे ही सेटिंग हुई 
हाँ सेटिंग हुई..सेटिंग हुई…सेटिंग हुई…
तो आये तो घूमे फिर हम दोनों
मुझे वही वेटिंग हुई 
हाँ वेटिंग हुई…वेटिंग हुई…वेटिंग हुई..
देखूँ तुझे तो होता हूँ 
मैं जाने क्यों अटेंशन 
ओ बोले तू जो थैंक यू तो 
मैं भी हूँ नो मेंशन 
कौन जाने कैसा तेरा मेरा है कनेक्सन…

लगे 440 वोल्ट छूने से तेरे
लगे 440 वोल्ट छूने से तेरे 
छूने से तेरे
छूने से तेरे 
छूने से तेरे 

जागूं मैं टीवी देखूँ रातों को 

गाने सीखूं तेरे लिए 
हाँ तेरे लिए…तेरे लिए…तेरे लिए 
ये बतला कैसे कैसे और क्या क्या 
सोचे तू भी मेरे लिए 
हाँ मेरे लिए..मेरे लिए..मेरे लिए 
हो तू है राशन कार्ड मेरा 
तू ही मेरा राशन 
ओ छोरी तेरे हुस्न पे 
मैं खुद को देता भाषण 

कौन जाने कैसा है तेरा मेरा कनेक्सन…
लगे 440 वोल्ट छूने से तेरे
लगे 440 वोल्ट छूने से तेरे 
छूने से तेरे
छूने से तेरे 
छूने से तेरे 

फिल्म – सुल्तान
गाना – जग घुमेया थारे जैसा न कोई
संगीतकार – विशाल शेखर
गीतकार – इरशाद कामिल

गायक – राहत फ़तेह अली खान  

ना वो अँखियाँ रूहानी कहीं 

ना वो चेहरा नूरानी कहीं 
कहीं दिल वाली बातें भी न 
ना वो सजरी जवानी कहीं 
जग घुमेया थारे जैसा न कोई 
जग घुमेया थारे  जैसा न कोई 
ना तो हँसना रूमानी कहीं 
ना तो खुशबु सुहानी कहीं 
ना वो रंगली अदाएं देखीं 
ना वो प्यारी सी नादानी कहीं 
जैसी तू है  वैसी रहना 
जग घुमेया थारे जैसा न कोई 
जग घुमेया थारे  जैसा न कोई 
बारिशों के मौसमों की भीगी हरयाली तू
सर्दियों में गालों पे जो आती है वो लाली तू
रातों का सुकून भी है 
सुबह की अज़ान है 
चाहतों की चादरों में मैंने है संभाली तू
कहीं अग जैसी जलती है 
बने बरखा का पानी कहीं 
कभी मन जाना चुपके से 
यू ही अपनी चलानी कहीं 
जैसी है तू वैसी रहना 
जग घुमेया थारे जैसा न कोई 
जग घुमेया थारे  जैसा न कोई 
अपने नसीबों में या 
हौंसले की बातों में 
सुखों और दुखों वाली 
सारी सौगातों में 
संग तुझे रखना है 
तूने संग रहना..
मेरी दुनिया में भी 
मेरे जज्बातों में 
तेरी मिलती निशानी कहीं 
जो है सबको दिखानी कहीं 
तू तो जानती है मरके भी 
मुझे आती है निभानी कहीं 
वो ही करना जो है कहना 
जग घुमेया थारे जैसा न कोई 
जग घुमेया थारे  जैसा न कोई 
फिल्म – सुल्तान
गाना – बेबी को बैस पसंद है
संगीतकार – विशाल शेखर
गीतकार – इरशाद कामिल

गायक – विशाल ददलानी, शाल्मली खोल्गाड़े, बादशाह, इशिता 

रे लक धक् लक धक् जातनी के 

हाँ भाव में तेजी 
रे अनपढ़ अनगढ़ जात उठाये 
उसके तो नखरे जी 
वो लिखी पढ़ी
वो लाल छड़ी 
वो हुकम करे 
बस खड़ी खड़ी 
बोहराया सा जाट करे 
हैं जी हैं जी हैं जी 
रे लक धक् लक धक् जातनी के 

हाँ भाव में तेजी 
उसकी अंखियाँ इंग्लिश बोले 
मेरी अनपढ़ अँखियाँ रे..
बैठे बैठे ले गयी देखो 
दिल को मेरे ठगीयां रे
हाय मेरे पास से होके 
फिर वो डीजे से जाके बोली 
भैया तू डिसाइड करियो 
अब बीट चले या गोली 
क्यूंकि?
बेबी को बैस पसंद है..
बेबी को बैस पसंद है..

जब वो नाचे 

मुझको उसका फेस पसंद है 
बेबी को बैस पसंद है..
बेबी को बैस पसंद है..
हाय रे मेरे भोले पंछी
पढ़ न उलटी पतियाँ रे 
भूल न मेरे साथ खड़ी हैं 
मेरी सोलह सखियाँ रे 
तेरे जैसे बड़े चौधरी 
देखे हैं मरजाने 
सॉंग सूना के इंग्लिश के 
जो डाले देशी दाने 
क्यूंकि 
बेबी को बैस पसंद है..
बेबी को बैस पसंद है..

जब वो नाचे 

मुझको उसका फेस पसंद है 
बेबी को बैस पसंद है..
बेबी को बैस पसंद है..
हे जाने ये कैसा असर हुआ है 
हशा हुआ है दिल का जो 
तुझे है देखा
जैसे हूँ भूला बाकी सारी दुनिया को 
सीमलेसली पीछे तू पड़ा है 
डेफिनेटली ठीठ बड़ा है 
खुद को तू समझे कूल बड़ा है 
पर फूल बड़ा है 
गुस्से में रेड रेड ये फेस पसंद है 
बेबी को बैस पसंद है..
बेबी को बैस पसंद है..

जब वो नाचे 

मुझको उसका फेस पसंद है 
बेबी को बैस पसंद है..
बेबी को बैस पसंद है..
नाउ छोरी वंटिंग डांस 
बट छोरा वांटेड रोमांस 
सो छोरा बोले डीजे से 
जे यू नो टेकिंग चांस 

दोनों हाथ हवा में करके नाचें 
छोटी घनी से मॉडर्न 
बेबी से जो पंगा लेगा हो जायेगी पिरोब्लेम 
छोरी छोटी हिट से फिर से 
सब लड़कों की डिजायर से 
यो चलता फिरता फैशन शो 
बेबी बिजली की नंगी वायर सी 
मैं पागल हो गया तेरे पीछे 
दिल मेरा तेरी हील के नीचे 
टक-टक बजती रे डांस फ्लोर पे 
आँखें मीचे…आँखें मीचे 
स्पीकर का वॉल्यूम उसको तेज पसंद है 
बेबी को बैस पसंद है..
बेबी को बैस पसंद है..

जब वो नाचे 

मुझको उसका फेस पसंद है 
बेबी को बैस पसंद है..
बेबी को बैस पसंद है..

Want More Like This?

Get Hindi and Punjabi Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes directly in your MailBox

Latest Lyrics

You would love this!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Get Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes