दिन ढल चुका था और परिंदा सफ़र में था – वज़ीर आग़ा

Din Dhal Chuka Tha Ghazal – Read the beautiful piece of ghazal by Dr. Wazir Agha.

दिन ढल चुका था और परिंदा सफ़र में था - वज़ीर आग़ा

दिन ढल चुका था और परिंदा सफ़र में था
सारा लहू बदन का रवाँ खिष्ट-ओ-पर में था

हद-ए-उफ़क़ पे शाम थी ख़ेमे में मुंतज़र
आँसू का इक पहाड़-सा हाइल नज़र में था

जाते कहाँ कि रात की बाहें थीं मुश्त-इल
छुपते कहाँ कि सारा जहाँ अपने घर में था

लो वो भी नर्म रेत के टीले में ढल गया
कल तक जो एक कोह -ए-गिराँ रहगुज़र में था

उतरा था वहशी चिड़ियों का लश्कर ज़मीन पर
फिर इक भी नर्म पात न सारे शहर में था

पागल-सी इक सदा किसी उजड़े मकाँ में थी
खिड़की में इक चिराग़ भरी दोपहर में था

उस का बदन था ख़ून की हिद्दत से शोला-फ़िश
सूरज का इक गुलाब-सा तिश्त-ए-सहर में था

Din Dhal Chuka Tha Ghazal (English Font)

Din dhal chukaa thaa aur parindaa safr men thaa
Saaraa lahoo badan kaa ravaan khist-o-par men thaa

Had-e-ufk pe shaam thii kheme men muntajr
Aansoo kaa ik pahaad-saa haail najr men thaa

Jaate kahaan ki raat kii baahen thiin mushtil
Chhupate kahaan ki saaraa jahaan apane ghar men thaa

Lo vo bhii narm ret ke tiile men dhal gayaa
Kal tak jo ek koh -e-giraan rahagujr men thaa

Utaraa thaa vahashii chidiyon kaa lashkar jmiin par
Fir ik bhii narm paat n saare shahar men thaa

Paagal-sii ik sadaa kisii ujade makaan men thii
Khidkii men ik chiraag bharii dopahar men thaa

Us kaa badan thaa khoon kii hiddat se sholaa-fish
Sooraj kaa ik gulaab-saa tisht-e-sahar men thaa

Want More Like This?

Get Hindi and Punjabi Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes directly in your MailBox

Ghazals Latest!

Most Loved!

Latest Posts!