तू भी चुप है मैं भी चुप हूँ यह कैसी तन्हाई है – जॉन एलिया

जॉन एलिया की ग़ज़ल “तू भी चुप है मैं भी चुप हूँ” पढ़िए. इस ग़ज़ल की एक विडियो भी इस पोस्ट के साथ दिया जा रहा है, जिसे गाया है कविता सेठ ने. 

तू भी चुप है मैं भी चुप हूँ यह कैसी तन्हाई है
तेरे साथ तेरी याद आई, क्या तू सचमुच आई है

शायद वो दिन पहला दिन था पलकें बोझल होने का
मुझ को देखते ही जब उन की अँगड़ाई शरमाई है

उस दिन पहली बार हुआ था मुझ को रफ़ाक़ात का एहसास
जब उस के मलबूस की ख़ुश्बू घर पहुँचाने आई है

हुस्न से अर्ज़ ए शौक़ न करना हुस्न को ज़ाक पहुँचाना है
हम ने अर्ज़ ए शौक़ न कर के हुस्न को ज़ाक पहुँचाई है

हम को और तो कुछ नहीं सूझा अलबत्ता उस के दिल में
सोज़ ए रक़बत पैदा कर के उस की नींद उड़ाई है

हम दोनों मिल कर भी दिलों की तन्हाई में भटकेंगे
पागल कुछ तो सोच यह तू ने कैसी शक्ल बनाई है

इश्क़ ए पैचान की संदल पर जाने किस दिन बेल चढ़े
क्यारी में पानी ठहरा है दीवारों पर काई है

हुस्न के जाने कितने चेहरे हुस्न के जाने कितने नाम
इश्क़ का पैशा हुस्न परस्ती इश्क़ बड़ा हरजाई है

आज बहुत दिन बाद मैं अपने कमरे तक आ निकला था
ज्यों ही दरवाज़ा खोला है उस की खुश्बू आई है

एक तो इतना हब्स है फिर मैं साँसें रोके बैठा हूँ
वीरानी ने झाड़ू दे के घर में धूल उड़ाई है

Tu bhi chup hai main bhi chup hun – Jaun Elia

Tu bhi chup hai maib bhi chup hun ye kaisī tanhā.ī hai
Tere saath tirī yaad aa.ī kyā tū sach-much aa.ī hai

Shāyad vo din pahlā din thā palkeñ bojhal hone kā
Mujh ko dekhte hī jab us kī añgḌā.ī sharmā.ī hai

Us din pahlī baar huā thā mujh ko rifāqat kā ehsās
Jab us ke malbūs kī ḳhushbū ghar pahuñchāne aai hai

Husn se arz-e-shauq na karnā husn ko zak pahuñchānā hai
Hum ne arz-e-shauq na kar ke husn ko zak pahuñchāi hai

Hum ko aur to kuchh nahīñ sūjhā albatta us ke dil meñ
Soz-e-raqābat paidā kar ke us kī niiñd uḌaai hai

Hum donoñ mil kar bhī diloñ kī tanhai meñ bhaTkeñge
Pagal kuchh to soch ye tū ne kaisī shakl banāī hai

Ishq-e-pechāñ kī sandal par jaane kis din bel chaḌhe
Kyārī meñ paanī Thahrā hai dīvāroñ par kaaī hai

Husn ke jaane kitne chehre husn ke jaane kitne naam
Ishq kā pesha husn-parastī ishq baḌā harjāī hai

Aaj bahut din ba.ad maiñ apne kamre tak aa niklā thā
Juuñ hī darvāza kholā hai us kī ḳhushbū aai hai

Ek to itnā habs hai phir maiñ sāñseñ roke baiThā hun
Vīrānī ne jhāḌū de ke ghar meñ dhuul uḌaai hai

Want More Like This?

Get Hindi and Punjabi Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes directly in your MailBox

Ghazals Latest!

Most Loved!

Latest Posts!