कुछ शेर : ३

उल्फ़त भी अजब शै है जो दर्द वही दरमाँ
पानी पे नही गिरता जलता हुआ परवाना

●◦●…∞◊ᴥ ᴥ◊∞…●◦●

जो सीने में दिल है तो बारे मुहब्बत
उठे या न उठे , उठाना पड़ेगा

●◦●…∞◊ᴥ ᴥ◊∞…●◦●

आदत के बाद दर्द भी देने लगा है लुत्फ़
हंस हंस के आह आह किये जा रहा हूँ मैं

●◦●…∞◊ᴥ ᴥ◊∞…●◦●

आदत के बाद दर्द भी देने लगा है लुत्फ़
हंस हंस के आह आह किये जा रहा हूँ मैं

●◦●…∞◊ᴥ ᴥ◊∞…●◦●

दो तुंद हवाओं पर बुनियाद है तूफां की
या तुम न हसीं होते या मैं न जवां होता

– आरजू लखनवी

मुझे आता है रोना ऐसी तन्हाई पे ऐ “ताबाँ”
न यार अपना,न दिल अपना,न तन अपना,न जाँ अपनी

●◦●…∞◊ᴥ ᴥ◊∞…●◦●

“ताबाँ” किसी से दर्द हमारा छुपा नहीं
आती है बूए दर्द हमारे सुख़न के बीच

– मीर अब्दुलहई

जब से उसने शहर को छोड़ा , हर रास्ता सुनसान हुआ
अपना क्या है सारे शहर का, इक जैसा नुकसान हुआ

●◦●…∞◊ᴥ ᴥ◊∞…●◦●

मासूमियत का ये अंदाज़ भी मेरे सनम का है मोहसिन
उसको तसवीर में भी देखूं तो पलकें झुका लेता है

●◦●…∞◊ᴥ ᴥ◊∞…●◦●

उसका मिलना ही मुकद्दर में नहीं था
वरना क्या क्या नहीं खोया उसे पाने के लिये

●◦●…∞◊ᴥ ᴥ◊∞…●◦●

नादानी की हद है, ज़रा देख तो उसे मोहसिन
मुझे खो कर मेरे जैसा ढूँढ रहा है

-मोहसिन

आज उनका ख़त आया चाँद के लिफ़ाफ़े में
रात के अँधेरे में उंगलियां चमकती हैं

●◦●…∞◊ᴥ ᴥ◊∞…●◦●

दाग़ दुनिया ने दिये, ज़ख्म ज़माने से मिले
हम को ये तोहफ़े तुम्हें दोस्त बनाने से मिले

●◦●…∞◊ᴥ ᴥ◊∞…●◦●

गुल से लिपटी हुई तितली को गिराकर देखो
आंधियों तुमने दरख्तों को गिराया होगा

●◦●…∞◊ᴥ ᴥ◊∞…●◦●

कैसे माने के उन्हें भूल गया तु ऐ कैफ
उन के खत आज हमें तेरे सरहाने से मिले

-कैफ भोपाली

Want More Like This?

Get Hindi and Punjabi Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes directly in your MailBox

Latest Lyrics

You would love this!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Get Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes