वो बन संवर के चले हैं घर से


Title: वो बन संवर के चले हैं घर से – Wo ban sa.nvar ke chale hai.n ghar se
Album : Muskaan
Music Director: Pankaj Udhaas
Lyricist: Zafar Gorakhpuri
Singer: Pankaj Udhaas

वो बन संवर के चले हैं घर से

हैं खोए खोए से बेख़बर से 
दुपट्टा ढलका हुआ है सर से 
ख़ुदा बचाए बुरी नज़र से 
कभी जवानी की बेखुदी में 
जो घर से बाहर कदम निकालो 
सुनहरे गालों पे मेरी मानो 
तुम एक काला सा तिल सजा लो 
बदन का सोना चुरा ले सारा 
कोई नज़र उठ के कब किधर से 
ख़ुदा बचाए बुरी नज़र से 
ये नर्म-ओ-नाज़ुक हसीन से लब 
के जैसे दो फूल हों कंवल के 
ये गोरे मुखड़े पे लाल रंगत 
के जैसे होली का रंग छलके 
सम्भालो इन लम्बी चोटियों को 
लिपट न जाएँ कहीं कमर से 
ख़ुदा बचाए बुरी नज़र से 
ये शहर पत्थरों का शहर ठहरा 
कहाँ मिलेगी यहाँ मोहब्बत 
ये शीशे जैसा बदन तुम्हारा 
मेरी दुआ है रहे सलामत 
तुम्हारे सपनों की नन्हीं कलियाँ 
बची रहें धूप के असर से
ख़ुदा बचाए बुरी नज़र से 
Wo ban sanwar ke chale hain ghar se 
hain khoye khoye se bekhar se
dupatta dhalka hua hai sar se  
khuda bachaaye buri nazar se  
kabhi jawaani ki bekhudi mein 
jo ghar se baahar kadam nikaalo 
gore mukhre pe meri maano 
tum ek kaala sa til saza lo 
khuda bachaaye buri nazar se   
ye narm-o-nazuk haseen se lab 
ke jaise do phool ho kanwal ke 
ye gore mukhde pe laal rangat 
ke jaise holi ka rang chhalke 
sambhaalo in lambi chotiyon ko 
lipat na jaaye kahin kamar se 
khuda bachaye buri nazar se 
ye shahar patthar ka shaahr thahra
kahan milegi yahan mohabbat
ye sheeshe jaisa badan tumhara 
meri dua hai rahe salaamat 
tumhare sapnon ki nanhi kaliyaan 
bachi rahe dhoop ke asar se 
khudaa bachaaye buri nazar se 

Want More Like This?

Get Hindi and Punjabi Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes directly in your MailBox

Latest Lyrics

You would love this!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Get Songs Lyrics, Poetry, Ghazals and Song Quotes